नई दिल्ली, दिल्ली भाजपा प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा की अगुवाई में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर भाजपा कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है. अब केजरीवाल एक आवास के बाहर प्रदर्शन कर रहे भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ मजिंदर सिंह सिरसा को हिरासत में ले लिया गया है. इस प्रदर्शन में दिल्ली भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता, गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत और आरपी सिंह भी शामिल थे.

मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर भारी पुलिस फ़ोर्स तैनात की गई है. इससे पहले भाजपा के कुछ कार्यकर्ताओं ने बैरीकेड पार करने की कोशिश की थी तो पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार करने की चेतावनी दी थी. अब मामले को बढ़ता देख दिल्ली पुलिस ने इन कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया है.

10 मई को देंगे हम जवाब- दिल्ली पुलिस के वकील

 इस मामले में दिल्ली पुलिस का प्रतिनिधित्व कर रहे वकील सत्य पाल जैन ने इस मामले पर कहा कि पंजाब सरकार ने आज औपचारिक रूप से कोई आवेदन दाखिल नहीं किया है, लेकिन हमें 2 आवेदनों की प्रतियां प्राप्त हुई हैं. पहली पुलिस आयुक्त को रोकने के लिए और दूसरी सीसीटीवी कैमरों को संरक्षित करने के लिए दिल्ली और हरियाणा पुलिस को निर्देश संबंधी. वकील सत्य पाल ने कहा कि अब मंगलवार को हम कोर्ट में जवाब देंगे.

हरियाणा-दिल्ली पुलिस के बातों में विरोधाभास

पंजाब सरकार की ओर से कोर्ट में पेश वकील पुनीत बाली ने कहा कि हरियाणा पुलिस का कहना है कि उन्होंने बग्गा की हिरासत दिल्ली पुलिस को सौंप दी है और दिल्ली पुलिस का कहना है कि उन्हें पंजाब पुलिस ने हिरासत में सौंपा. इसलिए हम उनके उनके विरोधाभासी बातों का जवाब देंगे और उचित कानूनी कार्रवाई भी करेंगे.

तजिंदर के माता पिता ने लगाया धर्म के अपमान का आरोप

बता दें कि इससे पहले दिल्ली बीजेपी प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा की पंजाब पुलिस द्वारा गिरफ्तारी पर उनके माता-पिता ने बड़ा आरोप लगाया है. तजिंदर के माता-पिता का कहना है कि पंजाब पुलिस ने उनके अपहरण (गिरफ्तारी) के वक्त उन्हें पगड़ी पहनने की अनुमति नहीं दी और उनके धर्म का अपमान किया है.

 

एलपीजी: आम लोगों का फिर बिगड़ा बजट, घरेलू रसोई गैस सिलेंडर 50 रूपये हुआ महंगा

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर