Thursday, December 8, 2022

एमसीडी चुनाव 2022 नतीजे

एमसीडी चुनाव  (250 / 250)  
BJP - 104
CONG - 09
AAP - 134
OTH - 03

लेटेस्ट न्यूज़

Time मैगज़ीन के पर्सन ऑफ द ईयर बने यूक्रेनी राष्ट्रपति जेलेंस्की

0
नई दिल्ली : यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की को विश्व प्रसिद्ध पत्रिका टाइम ने पर्सन ऑफ द ईयर 2022 बनाया है. बता दें, हर साल...

उत्तराखंड : कोर्ट ने Facebook पर लगाया 50 हजार का जुर्माना, जानिए पूरा मामला

0
नैनीताल : बुधवार (7 दिसंबर) को नैनीताल हाईकोर्ट ने फेसबुक पर 50 हजार का जुर्माना लगाया है. ये जुर्माना सही समय पर जवाब दाखिल...

हैदराबाद : देह व्यापर में धकेली जा रही थीं 14 हज़ार लड़कियां, ऐसे पकड़ा...

0
Hyderabad: हैदराबाद की साइबराबाद पुलिस को देह-व्यापर के गोरकधंधे में एक बड़ी कामयाबी हासिल हुई है. पुलिस ने वेश्यावृत्ति का राजफास करते हुए 17...

नहीं होगी उद्धव की दशहरा रैली! आठवले बोले- शिंदे को ही मिलना चाहिए मौका

मुंबई. इस समय महाराष्ट्र की सियासत में एक ही सवाल उठ रहा है कि क्या उद्धव ठाकरे को शिवाजी पार्क में दशहरे पर आयोजित होने वाली शिवसेना की सालाना रैली को संबोधित करने का मौका नहीं मिल पाएगा? राज्य में जिस तरह के मौजूदा हालात हैं और बीएमसी की ओर से अब तक मंजूरी न मिल पाने की वजह से कयास लगाए जा रहे हैं कि एकनाथ शिंदे को ही दशहरा रैली को अनुमति दी जाएगी. इस बीच केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने भी उद्धव ठाकरे को चुभने वाली सलाह दे दी है, एक निजी कार्यक्रम में मुंबई पहुंचे आठवले ने कहा कि असली शिवसेना तो एकनाथ शिंदे की ही है, इसलिए रैली करने की अनुमति उन्हें ही दी जानी चाहिए. इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि उद्धव ठाकरे को शिवाजी पार्क की बजाय कहीं और रैली कर लेनी चाहिए.

शिवाजी पार्क को लेकर हुई भिड़ंत

मुंबई के नगर निकाय ने शुक्रवार को ये बताया कि अक्टूबर की दशहरा रैली के लिए एकनाथ शिंदे और उद्धव ठाकरे दोनों ही गुट की ओर से आवेदन किए गए हैं, ऐसे में अब शिवजी पार्क में किसकी दशहरा रैली होगी ये तो आने वाले वक्त में ही पता चलेगा. दरअसल, ये रैली हमेशा से ही शिवसेना की विरासत रही है, यह सिलसिला बालासाहेब द्वारा शुरू किया गया था और अब उद्धव ठाकरे इसे आगे बढ़ा रहे हैं. लेकिन, जून में एकनाथ शिंदे के विद्रोह के बाद सेना में विभाजन के कारण शिवसेना तो खेमों में बंट गई है और दोनों ही तरह शिवसैनिक ही हैं. दोनों का ही कहना है कि वो बालासाहेब के सच्चे शिवसैनिक हैं. अब शिंदे महाराष्ट्र के मुखिया हैं और प्रदेश की सत्ता उनके हाथ में है, ऐसे में शिंदे कई मौकों पर खुद को असली शिवसैनिक भी कह चुके हैं.

ऐसे में इस बार दशहरा रैली के लिए शिवाजी पार्क में महाभारत तो तय है. अब रैली के लिए शिंदे और उद्धव दोनों गुटों ने अपनी दावेदारी पेश की है, वहीं नगर निकाय के मुताबिक, पहला आवेदन 22 अगस्त को शिवसेना के ठाकरे गुट से आया था और दूसरा गणेश उत्सव से ठीक पहले शिंदे समूह की तरफ से आया था.’

 

Cyrus Mistry: सीट बेल्ट नहीं लगाने की वजह से हुई साइरस मिस्त्री की मौत? जानें एक्सिडेंट की बड़ी बातें

Latest news