पटना: 2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर बिहार की राजनीति में उथल पुथल चल रही है. यूपीए महागठबंधन की तैयारी कर रहा है वहीं एनडीए जेडीयू व अन्य सहयोगी दलों के साथ तारतम्य बिठाने की कोशिश में है. ऐसे में केंद्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री और लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान के बेटी और दामाद उनके खिलाफ ताल ठोंकने की तैयारी में हैं. कहा जा रहा है कि लोकसभा चुनाव में हाजीपुर सीट से रामविलास पासवान के सामने उनकी बेटी आशा पासवान चुनाव लड़ेंगी.

रामविलास पासवान के दामाद अनिल कुमार साधु पहले से ही अपने ससुर से नाराज चल रहे थे. नाराजगी इतनी थी कि उन्होंने राजद का दामन थाम लिया था. अनिल कुमार साधु पिछले चुनाव से ही रामविलास पासवान के परिवार के खिलाफ खड़े हैं. पहले वे अकेले थे लेकिन इस बार उन्होंने अपनी पत्नी और रामविलास पासवान की बेटी आशा पासवान को भी अपने साथ ले लिया है.

अनिल कुमार साधु ने रामविलास पासवान पर तमाम तरह के आरोप लगाते हुए कहा, ‘उनके झूठ की सियासत का भंडाफोड़ करने का वक्त अब आ गया है. इसलिए हम पति पत्नी ने लोजपा प्रमुख से लोहा लेने के लिए कमर कस ली है. मेरी पत्नी आशा पासवान हाजीपुर से चुनाव लड़ेंगी. आशा ने चुनाव लड़ने के लिए अपनी सहमति दे दी है. मैं चाहुंगा कि महागठबंधन से आशा को हाजीपुर से टिकट मिले.’ उन्होंने दावा किया कि आशा चुनाव लड़ीं तो हाजीपुर से रामविलास पासवान की शिकस्त तय है.

बता दें कि रामविलास पासवान ने दो शादियां की हैं. पहली शादी 1960 में हुई थी. उनकी पहली पत्नी राजकुमारी देवी हैं जिनके दो बेटियां हैं. आशा पासवान राजकुमारी और रामविलास पासवान की बेटी हैं. वहीं दूसरी पत्नी रीना है जिनके एक बेटा और एक बेटी हैं. रामविलास ने रीना से 1982 में शादी की थी. चिराग पासवान रीना के बेटे हैं.

मोदी सरकार को पासवान की चेतावनी- अध्यादेश से मजबूत करो SC-ST एक्ट नहीं तो 9 अगस्त को भारत बंद

कांग्रेस समेत विपक्षी दलों पर रामविलास पासवान का तंज- 2019 में खाली नहीं पीएम पद, 2024 में कोशिश करें

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App