तरुणी गांधी

Punjab Police Raid:

चंडीगढ़. Punjab Police Raid: पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय द्वारा कल अंतरिम अग्रिम जमानत खारिज किए जाने के बाद पंजाब पुलिस की अपराध शाखा की एक टीम ने आज शिअद के वरिष्ठ नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया के आवास पर छापेमारी की। हैरानी की बात यह है कि पंजाब पुलिस ने हाईकोर्ट के आदेशों का इंतजार नहीं किया और छापेमारी की, जबकि पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय के आदेशों में यह उल्लेख किया गया है, “याचिकाकर्ता को तीन दिनों तक गिरफ्तार न किया जाए” जब तक कि वह सुप्रीम कोर्ट में अपना मामला दर्ज नहीं कर लेता। (इनखबर के पास उच्च न्यायालय के आदेश की प्रति है।)

इसलिए रद्द हुई मजीठिया की जमानत

बिक्रम सिंह मजीठिया के वकील एडवोकेट अर्शदीप कलेर के अनुसार, “सुप्रीम कोर्ट ने एनडीपीएस मामलों के तहत पंजीकृत सभी मामलों में सबकी जमानतें रद्द करने का आदेश दिया है, इसलिए मजीठिया की जमानत भी रद्द कर दी गई है। चूंकि अब हमें अपना केस दायर करने के लिए सुप्रीम कोर्ट जाना है, इसलिए माननीय पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने हमें तीन दिन का समय दिया और बिक्रम सिंह मजीठिया की गिरफ्तारी पर भी रोक लगा दी। लेकिन फिर भी, पंजाब पुलिस ने माननीय अदालत के आदेशों की प्रतीक्षा किए बिना, अमृतसर के मजीठिया हाउस पर छापा मारा, जो अदालत के आदेशों की अवमानना ​​है।

मजीठिया को पकड़ने के लिए कई जगह की गई थी छापेमारी

पुलिस टीम ग्रीन एवेन्यू इलाके में स्थित घर में करीब 50 मिनट तक रही। पुलिस कमिश्नर डॉ सुखचैन सिंह गिल ने इस बात की पुष्टि की है कि क्राइम ब्रांच की एक टीम ने छापेमारी की है.
पुलिस अधिकारी हालांकि चुप्पी साधे रहे, टीम के एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि मजीठिया की अग्रिम जमानत खारिज होने के बाद छापेमारी की गई।
जानकारी के मुताबिक बिक्रम सिंह मजीठिया को पकड़ने के लिए अलग-अलग जगहों पर छापेमारी की गई. पुलिस टीम ने आधे घंटे में पांच घर की तलाशी ली और बाद में खाली हाथ लौटी। डेली गार्जियन ने डीजीपी पंजाब वी के भावरा से बात करने की कोशिश की लेकिन उन्होंने इस मुद्दे पर कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

यह भी पढ़ें:

UP Chunav 2022: सपा ने कैराना से नाहिद हसन को दिया टिकट, 159 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी

Shooting Bullets in Jaunpur : जौनपुर में तड़तड़ाई गोलियां, मुठभेड़ में 5 गिरफ्तार और 2 फरार

SHARE