Thursday, February 2, 2023
spot_img

प्रशांत किशोर ने बताया कांग्रेस की त्रिमूर्ति का रोल, क्या अध्यक्ष पद पर होगा कोई और?

नई दिल्ली, यूपी, पंजाब, उत्तराखंड समेत 5 राज्यों में करारी शिकस्त मिलने के बाद से कांग्रेस एक बार फिर प्रशांत किशोर को साथ लाने की कोशिश में लगी है, इसी कड़ी में अब तक आलाकमान और प्रशांत किशोर की कई मुलाकातें हो चुकी हैं. इसी दौरान प्रशांत किशोर की ओर से कांग्रेस के पुनरुत्थान के लिए कई सुझाव दिए गए हैं. इनमें से ही एक सुझाव यह भी है कि गांधी परिवार की त्रिमूर्ति कहे जाने वाले सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी और राहुल गांधी में से कोई भी नेता पार्टी के अध्यक्ष पद पर न हो. प्रशांत किशोर का मानना है कि कांग्रेस की त्रिमूर्ति के अलावा परिवार से बाहर के किसी नेता को अध्यक्ष पद की ज़िम्मेदारी दी जाए. ऐसे में अहम सवाल यह है कि फिर गांधी परिवार के त्रिमूर्ति कहे जाने वाले ये नेता क्या जिम्मेदारी संभालेंगे.

प्रशांत किशोर ने दिया ये सुझाव

खबरों की मानें तो प्रशांत किशोर ने सुझाव दिया है कि सोनिया गांधी यूपीएम की चेयरमैन रहें, इसके अलावा राहुल गांधी संसदीय बोर्ड के नेता बनें और प्रियंका गांधी को महासचिव कॉर्डिनेशन की जिम्मेदारी दी जाए, इसके अलावा उन्होंने सुझाव दिया कि पार्टी को गठबंधन की राजनीति पूरे जोश से करनी चाहिए. उनका कहना है कि कांग्रेस को फिलहाल पूर्व और दक्षिण की 200 सीटों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए क्योंकि इन सीटों पर भाजपा का बहुत ज्यादा प्रभाव नहीं है. यही नहीं, प्रशांत किशोर ने कांग्रेस को वैचारिक जमीन पर वापसी करने का भी सुझाव दिया है. पीके का कहना है कि कांग्रेस को एक लोकतांत्रिक दल के रूप में काम करना चाहिए. इसके अलावा पार्टी को जनता को यह बताना होगा कि वह वंशवाद और भ्रष्टाचार से अलग है.

PK का फुल पावर मेकिंग प्रजेंटेशन

इधर प्रशांत किशोर ने कांग्रेस नेताओं को 52 स्लाइड का एक फुल पावर प्रेसेंटेशन दिया था, जिसमें 18 स्लाइड कांग्रेस की कम्युनिकेशन स्ट्रेटजी से जुड़ी थीं, वहीं, 10 स्लाइड में ये बताया गया था कि किन राज्यों से पार्टी की सीटें बढ़ सकती हैं. जबकि, 4 स्लाइडों में यह भी बताया कि किन राज्यों में पार्टी को जल्द से जल्द मजबूत होने की ज़रूरत है.

5 स्लाइड्स ऐसी भी थीं जहां प्रशांत किशोर ने 4–5 राज्यों में गठबंधन बनाने की बात कही थी, वहीं, आखिरी कुछ स्लाइड्स पार्टी के छवि निर्माण से जुड़े हुए थे.

 

ब्रिटिश प्रधानमंत्री का भारत दौरा: बोरिस जॉनसन ने की प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात, कई समझौतों पर हुए हस्ताक्षर

Latest news