नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंदौर में नगर निगम अधिकारियों पर बैट चलाने वाले बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय को लेकर तीखा रुख अख्तियार कर लिया है और कहा है कि ऐसा करने वाला चाहे किसी का बेटा हो, चाहे उसका बाप कोई हो, उसे पार्टी से निकाल देना चाहिए. दिल्ली में बीजेपी संसदीय दल की मीटिंग में बीजेपी महासचिव और पश्चिम बंगाल में भाजपा की बड़ी जीत के सूत्रधार रहे कैलाश विजयवर्गीय के बेटे का बिना नाम लिए हुए पीएम ने कहा कि इस तरह की हरकरत करने वाला चाहे किसी का बेटा हो, उसे पार्टी से निकाल देना चाहिए. प्रधानमंत्री आकाश विजयवर्गीय के जेल से छूटने पर जश्न और उसमें हवाई फायरिंग करने वालों भर भी खासे गुस्सा दिखे और कहा कि ऐसे आदमी के साथ-साथ उन लोगों को भी निकाल देना चाहिए जो इस तरह के लोगों को स्वागत करते हैं. बैठक के दौरान पीएम ने संसद में सांसदों की कम उपस्थिति पर भी चिंता जताई.

बता दें कि इंदौर के विधायक आकाश विजयवर्गीय ने अतिक्रमण हटाने गए नगर निगम अधिकारियों के साथ न सिर्फ बदतमीजी की बल्कि उन पर एक क्रिकेट बैट से हमला भी किया था. आकाश ने इसके बाद कहा था कि हमारा स्टाइल है, पहले आवेदन, फिर निवेदन, फिर दे दनादन. आकाश को इस मामले में केस होने के बाद दो दिन जेल में भी बिताना पड़ा है. उनकी रिहाई हुई तो स्थानीय नेताओं ने शहर भर में आकाश की तारीफ में कसीदे पढ़ते पोस्टर लगा दिए और जश्न में हवाई गोलियां दागी. प्रधानमंत्री मोदी ने आज संसदीय दल की बैठक में इस तरह के व्यवहार को अस्वीकार्य बताया.

पार्टी के एक सूत्र ने बताया कि पीएम मोदी ने कड़े शब्दों में कहा कि ऐसी हरकतें बर्दाश्त नहीं होंगी चाहे कोई किसी का भी बेटा हो. पीएम मोदी ने पार्टी की स्थानीय यूनिट को भंग करने की बात भी कही जिसने ऐसी हरकत के बाद आकाश का स्वागत किया था. दिलचस्प बात यह है कि इस बैठक में पार्टी के कई बड़े नेता नजर नहीं आएंगे. लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और सुषमा स्वराज जैसे कई नेता हैं जो संसदीय दल की बैठक में नहीं दिखेंगे. बीजेपी के ये तीनों दिग्गज संसद के किसी भी सदन के सदस्य नहीं है. इसी के चलते संसदीय दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे.

लोकसभा में बीजेपी के सबसे ज्यादा सांसद हैं. प्रधानमंत्री अक्सर संसदीय दल की बैठकों में सांसदों को जनता से जुड़े रहने और अपने अपने क्षेत्रों में समय बिताने और काम करने के लिए कहते आए हैं. केंद्र में दूसरी बार मोदी सरकार बनने के बाद संसदीय दल की यह पहली बैठक है. इस बार बहुत से नए सांसद जीतकर आए हैं. ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि प्रधानमंत्री मोदी इस बैठक में भी सांसदों को समय से सदन में मौजूद रहने और इसके अलावा अपने-अपने क्षेत्रों में जनता के बीच जुड़े रहने के लिए कह सकते हैं.

बजट सहित सरकार के आगे की योजनाओं पर हो सकती है बात

लोकसभा चुनाव के बाद संसद के मौजूदा सत्र में मोदी सरकार अपना पहला बजट पेश करेगी. हालांकि बैठक के एजेंडे के बारे में कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है, लेकिन नरेंद्र मोदी के किसी अंतरराष्ट्रीय दौरे से वापस आने के बाद संसदीय दल की बैठक में उनके अभिवादन की परंपरा रही है.प्रधानमंत्री जी-20 बैठक में हिस्सा ले कर आए हैं. संसद में जम्मू कश्मीर के दो महत्वपूर्ण बिल भी पास हुए हैं. एक बिल जम्मू कश्मीर आरक्षण से जुड़ा है. दूसरा 6 महीने का राष्ट्रपति शासन बढ़ाने का है, इसको लेकर भी सांसद गृहमंत्री अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अभिनंदन कर सकते हैं.

BJP Narendra Modi NDA Government First Month: नरेंद्र मोदी की एनडीए सरकार पार्ट-2 के एक महीने का रिपोर्ट कार्ड, 30 दिनों में लिए गए बड़े फैसले

PM Narendra Modi Mann Ki Baat Highlights: मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से मांगे जल संरक्षण के पारंपरिक उपाय, दिए ये सुझाव

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App