Sunday, December 4, 2022

पीएम मोदी ने स्वतंत्रता सेनानी की बेटी के छुए पैर, जानें कौन थे पसाला कृष्णमूर्ति

बेंगलुरु, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वतंत्रता सेनानी अल्लूरी सीताराम राजू की 125वीं जयंती समारोह में भाग लेने आंध्र प्रदेश के भीमावरम पहुंचे थे, यहाँ उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी पसाला कृष्णमूर्ति के परिवार से भी मुलाकात की और कृष्णमूर्ति की 90 वर्षीय बेटी पसाला कृष्णभारती के पैर छूकर आशीर्वाद लिए, वह व्हीलचेयर पर बैठी थीं. पसाला ने भी पीएम मोदी को आशीर्वाद दिया.

कौन थे पसाला कृष्णमूर्ति ?

बता दें कि पसाला कृष्णमूर्ति का जन्म ताडेपल्लीगुडेम तालुका के पश्चिमी विप्पारू गांव में साल 1900 में हुआ था और साल 1921 में वह अपनी पत्नी के साथ कांग्रेस में शामिल हो गए थे, पसाला गांधी जी के विचारों पर चलते थे. नमक सत्याग्रह आंदोलन में भी उन्होंने हिस्सा लिया और उसके बाद उन्हें एक साल जेल की सज़ा भी काटनी पड़ी, 1978 में उनका निधन हो गया था.

पीएम मोदी ने सीताराम राजू की मूर्ति का किया अनावरण

पीएम मोदी ने सीताराम राजू की 125वीं जयंती समारोह के मौके पर आंध्र प्रदेश के भीमावरम में कांस्य की बनी अल्लूरी सीताराम राजू की प्रतिमा का अनावरण किया. इस अवसर पर उन्होंने कहा, “आंध्र प्रदेश की यह धरती महान आदिवासी परंपरा से जुड़ी रही है, इस धरती पर कई महान क्रांतिकारियों और बलिदानियों का जन्म हुआ है. मैं उन सभी को आदरपूर्वक नमन करता हूँ.” उन्होंने कहा कि सीताराम राजू गारू की 125वीं जन्मजयंती पूरे देश में मनाई जाएगी.

बता दें कि अल्लूरी ने आदिवासियों के हित के लिए अंग्रेजों से लोहा लिया था, अल्लुरी ने रम्पा विद्रोहह का नेतृत्व किया था जिसे 1922 में शुरू किया गया था. उन्हें स्थानीय लोग मन्यम वीरुडु कहते थे जिसका अर्थ होता है जंगलों का नायक, अल्लुरी का जन्म 4 जुलाई 1897 को हुआ था.

 

कन्हैया लाल हत्याकांड: बीजेपी नेता को मिली जान से मारने की धमकी,पुलिस ने दी सुरक्षा

Latest news