गोरखपुर: बीजेपी ने अपने पोस्टर ब्वॉय योगी आदित्यनाथ को कर्नाटक भेजा था लेकिन आजकल योगी यूपी में ही घिर गए हैं. दरअसल, सीएम योगी आदित्यनाथ के शहर गोरखपुर में सैफई जैसा ही महोत्सव हो रहा है. गोरखपुर महोत्सव पर विपक्ष सवाल खड़े कर रहा है. पूछा ये जा रहा है कि योगी सरकार उस गोरखपुर में किस बात का जश्न मना रही है जहां, ऑक्सीजन की कमी से कई मासूम बच्चों ने दम तोड़ा था.

सैफई की तर्ज पर यूपी की योगी सरकार ने गोरखपुर महोत्सव का आयोजन किया है, जो गुरुवार से शुरू होकर शनिवार तक चलेगा. शनिवार को खुद सीएम योगी गोरखपुर पहुंचेंगे और कार्यक्रम का समापन करेंगे. योगी सरकार ने कार्यक्रम के लिए 35 लाख रुपए का बजट रखा है. महोत्सव में मशहूर भोजपुरी कलाकार रवि किशन, बॉलीवुड गायक शंकर महादेवन और मालिनी अवस्थी का भी प्रोग्राम रखा गया है.

यूपी सरकार तो इस कार्यक्रम को भोजपुरी संस्कृति से जोड़कर दिखाने की कोशिश कर रही है, लेकिन विपक्ष के अपने ही सवाल हैं. विपक्ष पूछ रहा है कि उस गोरखपुर में रंगारंग कार्यक्रम कराने की क्या जरूरत थी, जहां पांच महीने पहले ही दर्जनों मासूम सरकारी अस्पताल की लापरवाही की बलि चढ़ गए. यूपी सरकार का गोरखपुर महोत्सव ऐसे वक्त में हो रहा है जब प्रदेश की योगी सरकार एक के बाद एक घटनाओं को लेकर लगातार विरोधियों के निशाने पर है. बाराबंकी के देवा शरीफ इलाके में गुरुवार को ही ज़हरीली शराब पीने से 11 लोगों के मरने की खबर आई है. यूपी में किसानों की बदहाली का मामला भी अभी शांत नहीं पड़ा है. चंद रोज पहले ही लखनऊ में सीएम आवास के पास किसानों ने आलू फेंककर अपना विरोध जताया था. वीडियो में देखें पूरा शो…

पूर्ववर्ती अखिलेश सरकार के सैफई महोत्सव की तर्ज पर योगी सरकार भी आयोजित कराएगी गोरखपुर महोत्सव

लालू यादव ने जज से कहा- रिहा कर देते तो मकर संक्रांति को चूड़ा-दही खाते, आपको भी बुलाते, मिला मजेदार जवाब

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App