नई दिल्ली. सरकारी स्कूल में चुनावी सभा करने पर हेमा मालिनी को नोटिस भेजा गया है. मथुरा लोकसभा क्षेत्र के चौमुहां गांव में चुनाव प्रचार के दौरान हेमा ने स्कूल परिसर में जन सभा को सम्बोधित किया. जिला निर्वाचन अधिकारी ने हेमा मालिनी से इस पर तीन दिनों में जवाब तलब किया है. बिना अनुमति चुनावी सभा कराने पर भाजपा प्रत्याशी हेमा मालिनी और अन्य आयोजकों को नोटिस जारी किया गया है.

दरअसल मथुरा में चौमुंहा ब्लॉक के पूर्व माध्यमिक विद्यालय आझई खुर्द में हाल ही में हेमा मालिनी की चुनावी सभा का आयोजन किया गया. हालांकि पहले चुनावी सभा गांव आझई में कराने के लिए जिला प्रशासन से अनुमति ली गई थी. सभा से कुछ समय पहले ही गांव के प्रस्तावित स्थान की जगह सभा का आयोजन ना करके आयोजकों ने पूर्व माध्यमिक विद्यालय में आयोजन किया.

जिस समय चुनावी सभा की गई उस समय स्कूल में बच्चे पढ़ रहे थे. सभा का पंडाल लगना शुरू होते ही स्कूल की प्रभारी प्रधानाध्यापिका सरला देवी शर्मा ने इसका विरोध किया. उन्होंने कहा कि उन्हें पहले लगा ये किसी विभागीय कार्यक्रम का आयोजन है. बाद में उन्हें चुनावी सभा की जानकारी हुई तो उन्होंने विरोध किया लेकिन आयोजकों ने उन्हें चुप करवा दिया. उन्होंने बताया कि हेमा मालिनी के आने से पहले आयोजकों ने मंच पर हरियाणवी डांस भी करवाया.

हेमा मालिनी चुनावी सभा में मौजूद लोगों को संबोधित करने स्कूल में आईं. कार्यक्रम के बारे में शिकायत जिला निर्वाचन अधिकारी/डीएम सर्वज्ञराम मिश्र को की गई. उन्होंने मामले की जांच की जिम्मेदारी सहायक रिटर्निंग ऑफिसर/एसडीएम छाता को दी. इसी के बाद एसडीएम छाता ने भाजपा सांसद और लोकसभा चुनाव 2019 की प्रत्याशी हेमा मालिनी और स्कूल में चुनावी सभा का आयोजन करवाने वालों के खिलाफ नोटिस जारी कर जवाब मांगा है.

दरअसल किसी भी सरकारी स्कूल में चुनाव संबंधी कोई कार्यक्रम नहीं हो सकता है. यहां तक की निजी स्कूल में भी चुनावी कार्यक्रम करवाने के लिए पहले प्रबंधन और एसडीएम की अनुमति लेनी जरूरी है. एडीएम ने बताया कि कार्यक्रम की अनुमति गांव में करने के लिए दी गई थी. कार्यक्रम गांव के किसी ग्राउंड में किया जाना चाहिए था ना कि विद्यालय में. वहां के लिए अनुमति नहीं दी थी. कहा गया है कि सभी आरोपियों के खिलाफ नोटिस किया गया है और उनके जवाब आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.

Narendra Modi Government vs Election Commission: इलेक्टोरल बॉन्ड पर नरेंद्र मोदी सरकार और चुनाव आयोग में ठनी, सुप्रीम कोर्ट में केंद्र का हलफनामा

Election Commission Notice to Yogi Adityanath: भारतीय सेना को मोदी की सेना कहने पर चुनाव आयोग ने योगी आदित्यनाथ को भेजा नोटिस, 5 अप्रैल तक मांगा जवाब

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App