नई दिल्ली, अमरावती की निर्दलीय सांसद नवनीत राणा ने अस्पताल से बाहर आते ही महाराष्ट्र सीएम और शिवसेना प्रमुख पर क़रारा प्रहार किया है. मीडिया के साथ बातचीत की मनाही के बाद भी नवनीत ने खुलकर और बिना हिचक अस्पताल से बाहर आते ही मीडिया को बयान देना शुरू कर दिया है.

क्या बोलीं नवनीत राणा?

अस्पताल से बाहर आने के बाद नवनीत राणा ने मीडिया से बात की. इस बातचीत में उन्होंने उद्धव सरकार पर जमकर प्रहार किया. उन्होंने कहा, “मैंने ऐसा क्या किया जिसके लिए मुझे सज़ा दी गई? यदि हनुमान चालीसा और राम नाम लेना अपराध है, तो मैं 14 साल तक जेल में रह सकती हूं. नवनीत राणा ने आगे कहा, “मैं 14 दिन में ही हार नहीं मानने वाली. मैं पीछे नहीं हटूंगी. लोगों ने बहुत क्रूर कार्रवाइयां देखी हैं. महिला और सांसद होने के चलते मुझे जेल में प्रताड़ित किया गया. उद्धव ठाकरे सरकार ने अपनी ताक़त का दुरुपयोग किया है.”

पीएम मोदी से मिलेंगी नवनीत

मीडिया से बातची के दौरान नवनीत राणा ने खुलकर उद्धव ठाकरे को चुनौती दी और कहा, कि उन्हें मेरे ख़िलाफ़ चुनाव लड़ने मैदान में आना चाहिए. मैं मुंबई की ‘झील’ हूं. मुंबई नगर निगम के चुनाव में मैं प्रचार करूंगी. इस बीच नवनीत राणा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाक़ात करने का भी एलान किया. उन्होंने साफ़ बताया कि वो संजय राउत के ख़िलाफ़ शिक़ायत दर्ज कराएंगी. मालूम हो नवनीत राणा और उनके पति रवि राणा को कोर्ट ने कुछ शर्तों के बाद रिहा कर दिया था. मीडिया से बातचीत न करना भी इन शर्तों में से एक था.

हनुमान चालीसा पाठ को लेकर हुई थी गिरफ्तारी

बता दें कि लोकसभा सांसद नवनीत राणा और उनके पति रवि राणा को 23 अप्रैल को मुंबई पुलिस ने हिरासत में लिया था. राणा दंपति ने ऐलान किया था कि वो महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के निजी आवास मातोश्री के सामने हनुमान चालीसा पढ़ेंगे. इसके बाद 5 मई को 13 दिन जेल में गुजारने के बाद उन्हें रिहाई मिली थी।

यह भी पढ़ें:

Delhi-NCR में बढ़े कोरोना के केस, अध्यापक-छात्र सब कोरोना की चपेट में, कहीं ये चौथी लहर का संकेत तो नहीं

IPL 2022 Playoff Matches: ईडन गार्डन्स में हो सकते हैं आईपीएल 2022 के प्लेऑफ मुकाबले, अहमदाबाद में होगा फाइनल

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर