लखनऊ. उत्तर प्रदेश में भाजपा विधायकों का पार्टी छोड़ना गुरुवार को भी जारी रहा इस कड़ी में भाजपा के सातवें विधायक और पिछड़ी जाति के नेता मुकेश वर्मा ने भाजपा से इस्तीफा दे दिया। मुकेश वर्मा ने ट्विटर पर अपना इस्तीफा पोस्ट किया और पलायन की शुरुआत करने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य के घर पर आ गए।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद से विधायक मुकेश वर्मा भी स्वामी प्रसाद मौर्य और चार अन्य लोगों की तरह ओबीसी (अन्य पिछड़ा वर्ग) के नेता हैं, जिन्होंने पिछले तीन दिनों में भाजपा छोड़ दी है। मुकेश ने कहा कि कोई हमारी नहीं सुनता।

वर्मा ने अपने त्याग पत्र में लिखा कि भाजपा सरकार ने पिछले पांच सालों में दलितों, पिछड़ी जातियों और अल्पसंख्यकों और अपमानित जनप्रतिनिधियों पर कोई ध्यान नहीं दिया है।

विधायक ने कहा कि प्रदेश सरकार ने दलितों, पिछड़ी जातियों पर अत्याचार किया है। किसान, बेरोजगार युवा और लघु और मध्यम उद्योग। इन नीतियों के कारण मैं पार्टी छोड़ रहा हूं। स्वामी प्रसाद मौर्य उत्पीड़ितों और हमारे नेता की आवाज हैं। इस बात के तमाम संकेत हैं कि दो मंत्रियों समेत सभी सात विधायक अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी में जा रहे हैं।

चुनाव से पहले पिछड़ी जाति के सात नेताओं का जाना भाजपा के लिए एक बड़ा झटका है। पार्टी अपने चुनावी गणित का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा बनाए रखने के लिए मौर्य और अन्य पिछड़ी जाति के नेताओं पर भरोसा कर रही थी।

UP Assembly Election : अयोध्या से चुनाव लड़ेगे सीएम योगी!

UP Elections : यूपी में आयाराम-गयाराम की राजनीति, 48 घंटे में भाजपा से छह नेता गये और दो विधायक आये

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर