नई दिल्ली. बिहार की 40 लोकसभा सीटों की शीट शेयरिंग पर एनडीए की चार पार्टियों बीजेपी, जेडीयू, लोजपा और आरएलएसपी के बीच चल रहे बवाल के बीच एनडीए की बिहार में चौथे नंबर की पार्टी उपेंद्र कुशवाहा की राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में अपनी पार्टी के 66 कैंडिडेट उतारने का ऐलान किया है जो शिवराज सिंह चौहान की अगुवाई में चुनाव लड़ रही बीजेपी के लिए मुश्किलें खड़ी करेंगे. उपेंद्र कुशवाहा मंगलवार को सुबह बीजेपी के बिहार के प्रभारी भूपेंद्र यादव से मिले और अपनी तरफ से लोकसभा चुनाव को लेकर सीटों की मांग रख दी और मीडिया से कहा कि हमने जनता की भावना से बीजेपी को अवगत करा दिया है और सम्मानजनक समझौता होने से एनडीए मजबूत होगा.

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और बिहार के सीएम और जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार ने पिछले सप्ताह दिल्ली में मुलाकात के बाद ऐलान किया था कि बिहार में लोकसभा चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी और जनता दल यूनाइटेड बराबर सीटें लड़ेंगी. नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री रामविलास पासवान की एलजेपी और उपेंद्र कुशवाहा की आरएलएसपी की तरफ से शाह और नीतीश की मीटिंग या संवाददाता सम्मेलन में कोई नहीं था जिसके बाद ये माना गया कि दोनों बड़ी पार्टियों ने आपसी सहमति बना ली है कि वो बड़ा भाई और छोटा भाई के बदले बराबरी के भाई की तरह चुनाव लड़ेंगे.

उपेंद्र कुशवाहा दिल्ली लौटने के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से मिलने वाले थे लेकिन चर्चा है कि वो मीटिंग कैंसिल हो गई है. कुशवाहा ने बीजेपी नेता भूपेंद्र यादव से जो बात की है, उस बातचीत के आधार पर भाजपा अध्यक्ष शाह अपना मन बनाएंगे. 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी 30, लोजपा 7 और आरएलएसपी 3 सीट लड़ी थी. चर्चा है कि इस बार बीजेपी और जेडीयू 16-16 या 17-17 सीट लड़ना चाहती हैं और बची हुई 8 या 6 सीटों में एलजेपी और आरएलएसपी को सेट करना चाहती हैं. सारा गतिरोधी एलजेपी और आरएलएसपी की सीट घटाने पर है. ये दोनों पार्टियां जितनी सीट पर मान जाएं, बची हुई सीटें बराबर तौर पर बीजेपी और जदयू लड़ेगी.

एनडीए में रहते हुए भी मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा के खिलाफ कैंडिडेट उतारने के सवाल पर कुशवाहा ने कहा कि पार्टी की मध्य प्रदेश यूनिट ने फैसला किया है कि वो चुनाव लड़ेगी. कुशवाहा ने जोर दिया कि नरेंद्र मोदी को फिर प्रधानमंत्री बनना जरूरी है और उनकी पार्टी इसके लिए काम कर रही है. कुशवाहा ने मोदी कैबिनेट से इस्तीफे की अटकलों को खारिज करते हुए कहा कि वो पूरी तरह एनडीए में हैं और मोदी जी को फिर से प्रधानमंत्री बनाने में जुटे हैं.

Lok Sabha Election 2019: तेजस्वी यादव से मुलाकात के बाद उपेंद्र कुशवाहा बोले- बिहार में नहीं हुआ सीटों का बंटवारा

Lok sabha Elections 2019: बिहार में नीतीश कुमार सरकार के मंत्री और बीजेपी-जदयू के विधायकों को नहीं, सिर्फ एमएलसी को मिलेगा 2019 लोकसभा चुनाव का टिकट

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App