चेन्नई. वरिष्ठ सांसद और एमडीएमके चीफ वाइको के एक बयान पर काफी विवाद हो रहा है. वाइको ने एक कार्यक्रम में यह कह दिया कि जब भारत आजादी की 100 वीं वर्षगांठ मनाएगा तब कश्मीर उसका हिस्सा नहीं होगा. बता दें कि संसद में भी वाइको ने नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा लाए गए जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल का विरोध किया था. नरेंद्र मोदी सरकार के फैसले पर पाकिस्तान भी तिलमिला गया है और दुनिया भर के मुल्कों के आगे भारत के विरोध के नाम पर गिड़गिड़ा रहा है. हालांकि भारत ने अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर अपनी बात बेहतर तरीके से रखी है. संयुक्त राष्ट्र सहित दुनिया के तमाम देश इसे भारत का आंतरिक मामला मान रहे हैं.

एमडीएमके चीफ वाइको ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि जब भारत आजादी के 100 सालों का जश्न मनाएगा तब कश्मीर भारत का हिस्सा नहीं होगा. बीजेपी ने कश्मीर को दलदल में धकेल दिया है. कश्मीर पर अपनी राय मैंने पहले भी रखी थी. मैंने कश्मीर मुद्दे पर कांग्रेस पर तीस फीसदी हमला किया है और बीजेपी पर सत्तर फीसदी. वाइको ने पत्रकारों से कहा कि उनकी पार्टी पूर्व मुख्यमंत्री सी एन अन्नादुराई की 110 वीं जयंती धूमधाम से मनाएगी.वाइको ने कहा, हम अगले महीने अन्ना के जन्मदिन पर जश्न मनाने जा रहे हैं. इसके लिए जल्द ही हम एक जनसभा करेंगे. आज मैं उसी के तहत तैयारियों का जायजा लेने आया हूं.

बता दें कि नरेंद्र मोदी सरकार के गृह मंत्री अमित शाह ने संसद में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल 2019 पेश किया जिसके अंतर्गत जम्मू-कश्मीर को केंद्रशासित प्रदेश बना दिया गया. इसके अलावा लद्दाख को अलग केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा मिला. कश्मीर में आजादी के वक्त से चली आ रही धारा 370 के दो खंडों को खत्म कर दिया गया. इस फैसले का विरोध कांग्रेस, एमडीएमके, टीएमसी, जेडीयू जैसे दलों ने किया था. हालांकि टीएमसी और जेडीयू ने वोटिंग से बायकॉट किया था जिस वजह से मोदी सरकार को यह बिल पारित कराने में ज्यादा परेशानी नहीं आई. वहीं कांग्रेस के ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी पार्टी लाइन से परे जाकर इस बिल का समर्थन किया था. 

S Jaishankar China Visit: विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चीन से कहा- जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाना भारत का आंतरिक मसला, अंतरराष्ट्रीय सीमा पर नहीं पड़ेगा कोई प्रभाव

Kashmir Protest against Article 370 revoked Video: क्या जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने के विरोध में जुमे की नमाज के बाद घाटी में हजारों लोगों ने सड़कों पर प्रदर्शन किया?

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App