कोलकाता. तृणमूल कांग्रेस की शानदार जीत के बाद पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। कोरोना संकट काल और उसकी गाइडलाइन्स की वजह से शपथ ग्रहण समारोह छोटा ही रखा गया। इसी वजह से ममता बनर्जी के साथ किसी भी मंत्री ने शपथ नहीं ली।

राज्य में कोरोना वायरस महामारी के फैलाव को देखते हुए शपथ ग्रहण समारोह को बेहद सादगी से आयोजित किया गया। हालांकि 2 मई को जीत के बाद ही ममता बनर्जी ने घोषणा कर दी कि आयोजन सादगी से होगा।

शपथ ग्रहण के दौरान मंच पर ममता बनर्जी और राज्यपाल जगदीप धनखड़ ही नजर आए। दोनों ने एक-दूसरे के सामने हाथ जोड़कर अभिवादन स्वीकार किया। समारोह में टीएमसी के चुनावी रणनीतिकार रहे प्रशांत किशोर भी मौजूद रहे. इसके अलावा ममता के भतीजे अभिषेक बनर्जी, प्रदीप भट्टाचार्य और कुछ टीएमसी विधायक इस समारोह में पहुंचे.

मिली थी बंपर जीत

2 मई को आए नतीजे में टीएमसी के खाते में 213 सीटें आईं, जबकि भाजपा 77 पर सिमट गई। इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी। बीजेपी के शीर्ष नेता मैदान में थे, बावजूद इसके ममता सरकार भारी बहुमत से सरकार बनाने में सफल रही। हालांकि 77 सीटें पाकर बीजेपी ने पहले के मुकाबले काफ़ी सीटें हासिल की हैं।

JEE Main 2021 Exam Postponed : कोरोना वायरस के कारण एक बार फिर स्थगित हुई जेईई मेंस परीक्षा, शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ने ट्वीट कर दी जानकारी

Full Lockdown Advised by Rahul Gandhi : कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए राहुल गांधी ने केंद्र सरकार को देश में लॅाकडाउन लगाने का दिया सुझाव