कोलकता. 8-चरण के चुनाव के समापन के कगार पर पश्चिम बंगाल के साथ, सभी की निगाहें राज्य में सत्ता बनाए रखने के लिए ममता बनर्जी के साथ आने के बावजूद अब एग्जिट पोल पर हैं. राज्य में औसतन 80 फीसदी मतदान हुआ है. जहां ज्यादातर सीटों पर भाजपा और टीएमसी के बीच सीधी लड़ाई होने की उम्मीद है, वहीं माकपा -कांग्रेस-आईएसएफ गठबंधन ने कई सीटों पर लड़ाई को त्रिकोणीय बना दिया है.

बंगाल की जनता का मूड जानने के लिए इंडिया न्यूज ने जन की बात के साथ मिलकर ओपिनियन पोल किया है जिसमें बंगाल की जनता का रूझान जानने की कोशिश की गई है कि आखिर बंगाल की जनता किसके वादों पर भरोसा कर रही है और किसको सिरे से नकार रही है.

इंडिया न्यूज-जन की बात ओपिनियन पोल के मुताबिक इस बार बंगाल में परिवर्तन की बयार चलने वाली है. ओपिनियन पोल की गणना के मुताबिक बंगाल में बीजेपी को 162-185 सीटें मिलने का अनुमान है जबकि टीएमसी 121-104 सीटों पर सिमटती हुई नजर आ रही है. वहीं कांग्रेस को 9-3 सीट पर सिमट जाएगा. 

हालांकि, इन दो राय जनमत के विपरीत, अगर पीपल्स पल्स ओपिनियन पोल की माने तो भाजपा प्रचंड बहुमत हासिल करके टीएमसी सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए तैयार है. इसने भाजपा के लिए 162-185सीटों की भविष्यवाणी की है जबकि सत्तारूढ़ टीएमसी को लगभग 121 सीटें मिल सकती हैं. सीपीआई (एम) गठबंधन को 9-3 सीटें मिलने की संभावना है.

बंगाल में इस बार के चुनावी मुद्दे:-

भ्रष्टाचार 45%
हिंसा 5%
तुष्टीकरण 23%
एंटी इनकंबेंसी 20%
बेरोजगारी – 7%

पहले चरण में पश्चिम बंगाल की 294 में से 30 सीटों पर 27 मार्च को वोट डाले जाएंगे. वहीं, दूसरे चरण में 30 सीटों पर एक अप्रैल को, तीसरे चरण में 31 सीटों पर 6 अप्रैल को, चौथे चरण में 44 सीटों पर 10 अप्रैल को, पांचवे चरण में 45 सीटों पर 17 अप्रैल को, छठे चरण में 43 सीटों पर 22 अप्रैल को, सातवें चरण में 36 सीटों पर 26 अप्रैल को और आठवें चरण में 35 सीटों पर 29 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे. नतीजों की घोषणा 2 मई को होगी.

Covid-19 CT Test: जानिए कोरोना वायरस टेस्ट में सीटी वैल्यू की क्या है भूमिका? सीटी वैल्यू से पता लगता है संक्रमण का स्तर

Covid-19: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री मोदी को बताया कोरोना का ‘सुपर स्प्रेडर’

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर