जयपुर, राजस्थान के उदयपुर में चल रहे चिंतन शिविर के बीच भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी को बड़ा झटका लगा है, पंजाब में पार्टी के असंतुष्ट नेता और पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने शनिवार को कांग्रेस को अलविदा कह दिया है. उन्होंने फेसबुक लाइव के जरिए पार्टी छोड़ने का ऐलान किया. जाखड़ ने कांग्रेस आलाकमान पर आरोप लगाया कि कैप्टन अमरिंदर सिंह को हटाए जाने के बाद सीएम की नियुक्ति के मुद्दे पर पंजाब के एक खास नेता की ही बात सुनी गई, उन्हें पार्टी ने दरकिनार कर दिया. अब जाखड़ के पार्टी छोड़ने पर नवजोत सिंह सिद्धू ने उनका बचाव किया है.

सिद्धू ने किया ट्वीट

इधर, कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू सुनील जाखड़ के बचाव में आ गए हैं. उन्होंने जाखड़ का बचाव करते हुए कहा, कांग्रेस पार्टी को सुनील जाखड़ को किसी भी सूरत में नहीं छोड़ना चाहिए. वो कांग्रेस पार्टी की एक संपत्ति है. किसी भी मतभेद को मेज पर सुलझाया जा सकता है.

चिंतन शिविर से कुछ नहीं होगा- सुनील जाखड़

जाखड़ ने अपने फेसबुक लाइव में पार्टी को गुडबाय करते हुए नसीहत दी कि इस तरीके से चिंतन शिविर लगाने से कुछ नहीं होने वाला है. उन्होंने अपना दर्द जाहिर करते हुए कहा कि नोटिस उन लोगों को देना चाहिए था, जिन्होंने कांग्रेस पार्टी का नुकसान किया है.

फेसबुक लाइव के दौरान सुनील जाखड़ ने आगे कहा कि कांग्रेस का चिंतन शिविर सिर्फ एक औपचारिकता है. कांग्रेस को चिंतन शिविर की जगह चिंता शिविर करने की ज़रूरत है. यूपी चुनाव में 390 सीटों पर कांग्रेस को दो हज़ार वोट मिले, वहीं, गोवा-उत्तराखंड में सरकार के खिलाफ विरोध के बाद भी कांग्रेस वहां अपनी सत्ता काबिज़ नहीं कर पाई. उन्होंने कहा कि कांग्रेस को इस पर सोचने की जरूरत है.

बता दें कि राजस्थान के उदयपुर में कांग्रेस का तीन दिवसीय चिंतन शिविर चल रहा है. जिसमें पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी. पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी समेत कांग्रेस के दिग्गज नेता शामिल है.

 

 

दिल्ली: मुंडका अग्निकांड में अब तक 27 लोगों की मौत, NDRF का बचाव अभियान जारी

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर