नई दिल्ली.Arvind Kejriwal on SC Verdict: दिल्ली के मुख्यमंत्री और उपराज्यपाल अनिल बैजल के बीच शक्ति विभाजन मामले में सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के बाद सीएम अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉफ्रेंस कर अपनी प्रतिक्रिया दी. अपने प्रेस कॉफ्रेंस में अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यह जजमेंट संविधान और जनतंत्र के खिलाफ है. सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला दुर्भाग्यपूर्ण है. यह दिल्ली के लोगों के साथ अन्याय है. केजरीवाल ने आगे कहा कि हम कोर्ट का सम्मान करते हैं. लेकिन हम अपने अफसरों का ट्रांसफर भी नहीं कर सकते तो सरकार कैसे चलेगी?

केजरीवाल ने आगे कहा कि दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों में से जिस पार्टी को 67 सीटें मिली उसको अपने ऑफिसर को ट्रांसफर करने का राइट नहीं है. जबकि जिस पार्टी को केवल तीन सीटें मिली वो ट्रांसफर करेगा. ये कैसा जनतंत्र है? जिस सरकार को जनता ने भारी बहुमत से जिताया उसे काम करने भी न दिया जाए तो दिल्ली का विकास कैसे होगा?

अपने बयान की व्याख्या करते हुए सीएम केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया के काम की चर्चा पूरी दुनिया में है. लेकिन यदि उनके एजुकेशन सेक्रेटरी को बदल कर ऐसे अधिकारी को भेज दिया जाए, जो उनकी सुने ही नहीं तो काम कैसे होगा? केजरीवाल ने आगे कहा कि 40 साल से एंटी करप्शन ब्यूरो दिल्ली सरकार के पास थी. लेकिन अब इसे केंद्र सरकार के अधिकार में दे दिया गया है. अब हमारे पास भ्रष्टाचार की कोई शिकायत आएगी तो हम उसपर क्या कारवाई कर सकेगे.

LG Vs Arvind Kejriwal: दिल्ली में अरविंद केजरीवाल और एलजी अनिल बैजल के बीच पावर वॉर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले की 10 बड़ी बातें
Sanjay Singh on Supreme Court Verdict: क्या नरेंद्र मोदी की मर्जी के बिना सुप्रीम कोर्ट फैसला नहीं देता? एलजी बनाम अरविंद केजरीवाल मामले में बोले संजय सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App