नई दिल्ली. अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी और राहुल गांधी की कांग्रेस के बीच सिर्फ दिल्ली लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन नहीं होगा. उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इसकी पुष्टि की. जब सिसोदिया से कांग्रेस के 4:3 के सीट शेयरिंग फॉर्म्युले पर पूछा गया तो उन्होंने कहा कि कांग्रेस को दिल्ली में तीन सीट देने का मतलब है बीजेपी को तीन सीट देना. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हरियाणा में पहले 6:3:1 का सीट शेयरिंग फॉर्म्युला दिया था. इसमें 6 सीट कांग्रेस ने अपने लिए रखी थीं. 3 सीट जननायक जनता पार्टी के लिए और एक सीट आप को देने की बात कही गई थी.

उन्होंने कहा, ”कांग्रेस से गठबंधन करने का हमारा फैसला मोदी-शाह की जोड़ी को रोकना था.” मनीष सिसोदिया ने यह भी कहा कि कांग्रेस के भ्रष्टाचार से लड़कर आम आदमी पार्टी बनी थी. लेकिन जिस तरह मोदी-शाह की जोड़ी लोकतंत्र के लिए खतरा बनी हुई है. उसके बाद आप ने कांग्रेस से गठबंधन का फैसला किया है. अगर केंद्र में फिर मोदी सरकार बनी तो कांग्रेस इसके लिए जिम्मेदार होगी.

पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने कहा कि आम आदमी पार्टी कांग्रेस द्वारा प्रस्तावित सभी सीट शेयरिंग फॉर्म्युले पर राजी हो गई थी लेकिन फिर कांग्रेस पीछे हट गई. कांग्रेस से मोलभाव करने वाले संजय सिंह ने कहा, ”हरियाणा में हमारी सहयोगी जेजेपी से बातचीत करने के बाद हमने इसके लिए हामी भरी थी लेकिन कांग्रेस पीछे हट गई और कहा कि वह जेजेपी को दो सीट से ज्यादा नहीं दे सकती और 7:2:1 का फॉर्म्युला रख दिया. ”

संजय सिंह ने कहा, जेजेपी चीफ दुष्यंत चौटाला भी राजी हो गए थे लेकिन शुक्रवार रात कांग्रेस ने फिर मना कर दिया. उन्होंने कहा कि दिल्ली के सिवा कहीं और गठबंधन नहीं हो सकता. हालांकि सूत्रों ने कहा कि हरियाणा में गठबंधन की संभावना पूरी तरह खत्म हो चुकी है. लेकिन आप दिल्ली में 5:2 के फॉर्म्युले पर गठबंधन करने को तैयार है. इसमें पांच सीट पर आम आदमी पार्टी लड़ना चाहती है. दिल्ली में सभी 7 लोकसभा सीटों पर चुनाव 12 मई को होंगे. 

Gopal Rai on AAP Congress Alliance: आप और कांग्रेस के गठबंधन विवाद में कूदे गोपाल राय, कहा- कांग्रेस क्यों चाहती है 11 सीटों पर भाजपा को जिताना

Arvind Kejriwal Attacks Rahul Gandhi: आप-कांग्रेस गठबंधन पर आमने-सामने राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल, दिल्ली सीएम बोले- कौनसा यू-टर्न

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App