नई दिल्ली. एनआरसी फाइनल ड्राफ्ट को लेकर मचे हंगामे के बीच बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने प्रेस कांफ्रेंस कर ममता बनर्जी पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी वोट के लिए देश की सुरक्षा से खिलवाड़ कर रही हैं. घुसपैठिये और शरणार्थियों में अंतर होता है. ममता बनर्जी बताएं कि घुसपैठियों को बाहर करने से गृहयुद्ध कैसे होगा. उन्होंने कहा कि देश के अंदर घुसपैठियों को बढ़ावा देकर देश की आंतरिक सुरक्षा कैसे होगी.

एनआरसी देश की सुरक्षा के लिए है. कोई भी यहां आकर रहने लगेगा तो देश कैसे चलेगा. कांग्रेस में घुसपैठियों को बाहर निकालने का दम नहीं है. घुसपैठियों के मामले में सभी पार्टियों को अपना स्टैंड क्लियर करना चाहिए. उन्होंने सवाल खड़ा करते हुए कहा कि इस देश के लोगों का मानवाधिकार है या नहीं?

अमित शाह ने स्पष्ट किया कि जिन लोगों का नाम नहीं है वे घुसपैठिये हैं. इस लिस्ट में भारतीयों का नाम नहीं कटा. एनआरसी पर वोटबैंक के लिए सवाल उठाए जा रहे हैं. कांग्रेस सरकार के समझौते के बाद एनआरसी पर फैसला हुआ है. राजीव गांधी ने एनआरसी पर फैसला लिया था. उन्होंने कहा कि एनआरसी बिल राज्यसभा में पास होगा. रोहिंग्याओं पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें हम शरणार्थी नहीं मानते. 

शाह ने कहा कि पिछले दो दिनों से देश में NRC के उपर बहस चल रही है और यह कहा जा रहा है कि 40 लाख भारतीयों नागरिकों को अवैध घोषित कर दिया गया है जबकि वास्तविकता है कि प्राथमिक जांच होने के बाद जो भारतीय नहीं है उनके नाम NRC से हटाए गए हैं. 40 लाख का आंकड़ा कोई अंतिम आंकड़ा नहीं है, सुप्रीम कोर्ट के संरक्षण में पूरी जांच की जाएगी और उसके बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा. विपक्षी दलों के द्वारा देश में भाजपा की छवि को धूमिल करने के प्रयास किए जा रहे हैं.

NRC ड्राफ्ट के आधार पर सूची में नाम नहीं होने वालों के खिलाफ कोई कार्रवाई न हो- सुप्रीम कोर्ट

बीजेपी संसदीय दल की बैठक शुरू, पीएम नरेंद्र मोदी ने सांसद को पैर छूने से रोका, अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर जीत के लिए PM को बधाई

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर