गुवाहाटी. असम में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन, एनआरसी की लिस्ट आने के बाद नेताओं ने एक-दूसरे पर सवाल खड़े कर दिए हैं. लिस्ट के आते ही पक्ष और विपक्ष दोनों फिर आमने-सामने खड़े हो गए हैं. दरअसल एनआरसी लिस्ट में 19 लाख लोगों को शामिल नहीं किया गया. लिस्ट सवालों के घेरे में आ गई है. कांग्रेस ही नहीं बल्कि बीजेपी के कुछ नेताओं ने भी लिस्ट पर सवाल उठाए हैं.

एनआरसी पर एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी और भारतीय जनता पार्टी के नेता हेमंता बिस्वा शर्मा ट्विटर पर भिड़ गए हैं. दरअसल, असदुद्दीन ओवैसी ने एक ट्वीट किया. इसमें एक ट्वीट को उन्होंने रिट्वीट किया और साथ में हेमंता बिस्वा शर्मा को टैग करते हुए उनपर निशाना साधा.

ओवैसी ने ट्वीट किया, यह देखकर साफ पता चल रहा है कि कैसे असम में एनआरसी का इस्तेमाल मुसलमानों को बाहर करने के लिए किया जा रहा है. इस तरह की एक कठिन प्रक्रिया के माध्यम से अनिर्दिष्ट लोगों को डालने के बाद, हेमंता बिस्वा का कहना है कि ऐसे या वैसे किसी भी तरह हिंदुओं की रक्षा की जाएगी.

इसके जवाब में हेमंता बिस्वा शर्मा ने कहा, अगर भारत हिंदुओं की रक्षा नहीं करेगा तो उनकी रक्षा कौन करेगा? पाकिस्तान? भारत सदैव सताए हुए हिंदुओं का घर रहेगा, भले ही आप इसके विरोधी हों सर.

इस पर फिर ओवैसी ने जवाब दिया. उन्होंने ट्वीट करके कहा, भारत को सभी भारतीयों की रक्षा करनी चाहिए, केवल हिंदुओं की नहीं. दो-राष्ट्र सिद्धांत के उपासक कभी भी यह नहीं समझ सकते कि यह देश एक विश्वास की तुलना में बहुत बड़ा है. संविधान कहता है कि भारत सभी धर्मों, जातियों और जातियों के साथ समान व्यवहार करेगा. यह हिंदू राष्ट्र नहीं है, इंशाल्लाह यह कभी भी नहीं होगा.

अपने अगले ट्वीट में उन्होंने कहा, हम ऐसे देश हैं जिन्होंने कई उत्पीड़ित समुदायों (हिंदुओं और गैर-हिंदुओं) का स्वागत किया है, वे संभावित नागरिक नहीं हैं. धर्म कभी भी नागरिकता का आधार नहीं हो सकता. हमारे पूर्वजों ने इसे अस्वीकार कर दिया जब उन्होंने संविधान का मसौदा तैयार किया और गोडसे की औलाद इसे इतनी आसानी से बदल नहीं सकती.

Assam Government on NRC List: एनआरसी में जिनका नहीं है नाम असम सरकार उन्हें देगी कानूनी मदद

Assam NRC List: बहन भतीजे भारतीय, मौसी हुई विदेशी, रिटायर्ड सुबेदार मोहम्मद सनाउल्लाह का भी नाम गायब मगर पत्नी का नाम शामिल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App