नई दिल्ली. लोकसभा 2019 के चुनावों में दिल्ली में आम आदमी पार्टी अकेले ही चुनाव लड़ेगी पार्टी का कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं होगा. दिल्ली के मुख्यमंत्री ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि दिल्ली की सात लोक सभा सीटों पर आप उम्मीदवारों को भारी बहुमत से जिताएं. अब इस बात से साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि जब दिल्ली की सभी लोकसाभा सीटों पर आप के उम्मीदवार खड़े होंगे तो इस चुनाव में आप का कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं होगा. इसके साथ ही प्रेस कॉन्फ्रेंस में अरविंद केजरीवाल ने कहा हम राष्ट्र के बारे में बहुत चिंतित हैं, इसलिए हम गठबंधन के साथ मैदान में उतरने के लिए के लिए तैयार हैं, हालांकि कांग्रेस ने गठबंधन के लिए लगभग नहीं कहा है.

हालांकि पिछले साल 2014 के लोकसभा चुनावों में भी आम आदमी पार्टी चुनावी मैदान में अकेले उतरी थी जिसे सातों सीटों पर हार मिली थी. इस चुनाव में दिल्ली की सभी सीटें बीजेपी के खाते में गई थीं. इसके साथ ही बता दें कि साल 2009 के लोकसभा चुनावों में दिल्ली का सातों सीटों पर कांग्रेस पार्टी को जीत मिली थी.

हालांकि पिछले साल 2014 के लोकसभा चुनावों में भी आम आदमी पार्टी चुनावी मैदान में अकेले उतरी थी जिसे सातों सीटों पर हार मिली थी. इस चुनाव में दिल्ली की सभी सीटें बीजेपी के खाते में गई थीं. इसके साथ ही बता दें कि साल 2009 के लोकसभा चुनावों में दिल्ली की सातों सीटों पर कांग्रेस पार्टी को जीत मिली थी. उत्तर-पश्चिम दिल्ली लोकसभा क्षेत्र की कमान बीजेपी से आप में आए गुग्गन सिंह रंगा के हाथों में दी है और वहीं चांदनी चौक की कमान पार्टी के राष्ट्रीय सचिव पंकज गुप्ता को दी है.

Arvind Kejriwal LG Power War SC Verdict Social Reaction: नहीं सुलझा दिल्ली सीएम और एलजी अनिल बैजल के पावर वॉर का मामला, सोशल मीडिया पर यूजर्स बोले – अब संयुक्त राष्ट्र संघ में अप्रोच करेंगे केजरीवाल

LG Vs Arvind Kejriwal: दिल्ली में अरविंद केजरीवाल और एलजी अनिल बैजल के बीच पावर वॉर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले की 10 बड़ी बातें

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर