हैदाराबाद: एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने संघ प्रमुख मोहन भागवत के उस बयान पर करारा हमला बोला है जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर शेर अकेला जंगल में अकेला रहता है तो जंगली कुत्ते उसपर हमला कर उसे हरा सकते हैं. असदुद्दीन ओवैसी ने पूछा है कि ‘शेर कौन है और कुत्ता कौन है? उन्होंने कहा कि भारत का संविधान सबको इंसान मानता है और किसी को शेर या कुत्ता नहीं करता. आरएसएस के साथ दिक्कत यही है कि उन्हें संविधान पर भरोसा ही नहीं है.’

ओवैसे ने कहा कि आरएसएस की ऐसी भाषा पर उन्हें कोई आश्चर्य नहीं हो रहा है क्योंकि पिछले 90 सालों से उनकी यही भाषा शैली रही है. उन्होंने कहा कि संघ वाले खुद को शेर और बाकी लोगों को कुत्ता समझते हैं.

दरअसल शिकागो में आयोजित विश्व हिंदू कांग्रेस को संबोधित करते हुए मोहन भागवत ने शेर और कुत्ते वाला बयान दिया था. उन्होंने कहा था कि हिंदू हजारों सालों से प्रताड़ित हो रहे हैं क्योंकि वो अपने मूल सिद्धांत का पालन नहीं कर रहे हैं. उन्होंने ये भी कहा कि अब समय आ गया है कि हिंदुओं को साथ आना चाहिए. उन्होंने ये भी कहा कि हिंदू किसी का विरोध करने के लिए नहीं जीते हैं लेकिन फिर भी कुछ लोग हिंदुओं का विरोध करते हैं. कोई तीसरा हमें नुकसान ना पहुंचा पाए इसलिए हमें एकजुट होना होगा.

पढ़ें- World Hindu Congress: शिकागो में बोले RSS प्रमुख मोहन भागवत- वर्षों से प्रताड़ित हो रहे हिंदुओं को एकजुट होने की जरूरत 

आरएसएस के तीन दिवसीय कार्यक्रम में राहुल गांधी, अखिलेश यादव, मायावती और ममता बनर्जी को न्योता

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App