Wednesday, February 1, 2023
spot_img

सुरक्षा में कटौती के बाद अब छीनने वाला है शिवपाल यादव का बंगला ?

मैनपुरी. उत्तर प्रदेश की तीन सीटों पर उपचुनाव होना है. ऐसे में, मैनपुरी में राजनीतिक विरासत को बचाने के लिए चाचा-भतीजे एक मंच पर जनसभाएं कर रहे हैं. वहीं दूसरी तरफ शिवपाल यादव की भतीजे अखिलेश से नजदीकी उनके लिए मुसीबतें बढ़ा सकती है. ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि हाल ही में शिवपाल यादव की सुरक्षा में कटौती की गई वहीं अब उनका सरकारी बंगला भी उनके हाथ से जा सकता है. दरअसल, राज्य संपत्ति विभाग में शिवपाल यादव के बंगला आवंटन की फाइल से धूल हटाकर निरीक्षण शुरू हो गया है और इसके साथ ही साथ ही गोमती रिवरफ्रंट से जुड़ी फाइलों को भी खंगाला जा रहा है.

ये है मामला

दरअसल, साल 2018 में शिवपाल यादव ने समाजवादी पार्टी से अलग होकर अपनी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी बना ली थी, अपनी पार्टी बनाने के बाद उत्तर प्रदेश शासन को शिवपाल यादव की जान का खतरा लगा और उन्हें जेड श्रेणी की सुरक्षा दे दी गई, उस समय सरकार ने लाल बहादुर शास्त्री मार्ग का 6 नंबर आलीशान बंगला भी शिवपाल यादव को एलॉट कर दिया था और फिर यही बंगला प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का केंद्रीय कार्यालय भी बन गया. साल 2018 से 2022 तक चाचा भतीजे की बीच जुबानी जंग भी चलती रही, लेकिन अब परिवार में एका हो गया है. ऐसे में सरकार ने शिवपाल यादव की सुरक्षा वापस ले ली है और अब उनका बंगला भी उनसे छीन सकता है.

कुछ ही दिनों में नेताजी के निधन से खाली हुई मैनपुरी लोकसभा सीट पर चुनाव होना है, मैनपुरी लोकसभा सीट पर उपचुनाव के बीच प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के नेता शिवपाल सिंह यादव को एक तगड़ा झटका लगा है, दरअसल, शिवपाल यादव के सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को समर्थन देने के बाद योगी सरकार ने उनकी सुरक्षा घटा दी है. शिवपाल की सुरक्षा घटा दी गई है, ऐसे में अब उन्हें Y कैटेगरी की सुरक्षा दी जाएगी. इससे पहले शिवपाल को Z कैटेगिरी की सुरक्षा दी जा रही थी, लेकिन अब अचानक सरकार ने उनकी सुरक्षा घटना का फैसला लिया है.

 

गुजरात चुनाव: 19 जिलें…89 सीटें…788 उम्मीदवार… 2 करोड़ वोटर कर रहे हैं फैसला

Layoffs : अब H&M करने जाए रही हैं अपने इतने ज़्यादा कर्मचारियों की छंटनी, यूक्रेन-रूस युद्ध है बड़ी वजह

Latest news