Friday, December 9, 2022
गुजरात नतीजे (182/182)  हिमाचल नतीजे (68/68) 
BJP - 156 BJP - 25
AAP - 05 CONG - 40 
CONG - 17  AAP - 00
OTH - 04  OTH - 03 
Is gold is going to extinct from world

क्या ख़त्म होने वाला है सारी दुनिया का सोना?

0
क्या ख़त्म होने वाला है सारी दुनिया का सोना? सोने का इस्तेमाल आम इंसानों से लेकर दुनिया भर की सरकारें करती हैं। सोने के बग़ैर...

UP Crime: बीवी ने दोबारा सेक्स करने पर जताया ऐतराज़ तो पति ने गला...

0
UP Crime: उत्तर प्रदेश के अमरोहा ज़िले से रिश्तों को तार-तार करने वाला वाकया निकलकर सामने आ रहा है. जहाँ पर एक पति ने...

दिल्ली: कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, MCD चुनाव जीतने वाले पार्षद AAP में शामिल

0
नई दिल्ली. एमसीडी चुनाव के नतीजे आ गए हैं. एमसीडी में आम आदमी पार्टी को पूर्ण बहुमत मिली है. दिल्ली नगर निगम चुनाव के...
MG 4 EV

नए साल पर पेश होने वाली है ये इलेक्ट्रिक कार, मिलेगी 452km की रेंज!

0
MG 4 EV: देश की कार कंपनी एमजी मोटर इंडिया (MG Motor India) अगले साल के आगाज़ में एकदम नई इलेक्ट्रिक कार पेश करेगी।...

Gujarat Muslim Seats: जानिए क्या है गुजरात की मुस्लिम बहुल्य सीटों का हाल?

0
Gujarat Muslim Candidates: गुजरात विधानसभा के नतीजों के बाद साफ़ है कि भारतीय जनता पार्टी ने भारी बढ़त के साथ जीत हासिल की है....

मायावती ने उपराष्ट्रपति चुनाव में जगदीप धनकड़ को क्यों दिया समर्थन ?

लखनऊ, उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने उपराष्ट्रपति चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ को समर्थन देने का ऐलान किया है, इससे पहले मायावती ने राष्ट्रपति चुनावों में आदिवासी महिला उम्मीदवार के नाम पर एनडीए को वोट किया था, अब मायावती के इस फैसले के भी कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं.

भाजपा उम्मीदवार का समर्थन करना मजबूरी?

दरअसल बसपा के इतिहास को देखें तो दिल्ली के तख्त से मायावती का रवैया नरमी भरा रहा है फिर चाहे सरकार कांग्रेस की रही हो या फिर भाजपा की. ऐसे में सवाल ये है कि मायावती की भाजपा को समर्थन देने की ये घोषणाएं किसी राजनीतिक लेन-देन का ही हिस्सा तो नहीं, चूंकि मायावती पर भ्रष्टाचार के कई आरोप लग चुके हैं और बीते कई सालों से मायावती ईडी और सीबीआई की रडार पर हैं.

मायावती ने हमेशा बिठाया दिल्ली से तालमेल

मायावती का जन्म भले ही गरीब परिवार में हुआ हो लेकिन अब उनकी गिनती रईस नेताओं में की जाती है. मायावती सत्ता में रही हो या फिर विपक्ष में लेकिन दिल्ली की हुकूमत के साथ तालमेल बिठाकर काम करना हमेशा से उनकी मजबूरी रही है. केंद्र से नरम रवैए के चलते मायावती के सर से सीबीआई और ईडी का भूत दूर रहता है, ऐसे में मायावती का एनडीए उम्मीदवार जगदीप धनकड़ का समर्थन करना हो लाज़मी है.

मुस्लिम+दलित+जाट समीकरण

इस मजबूरी के अलावा सियासी रूप से समझें तो भाजपा के उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जनदीप धनखड़ का समर्थन करके मायावती ने लोकसभा चुनाव से पहले मुस्लिम, दलित और जाट समीकरण को दोबारा मजबूत बनाने की कोशिश की है, साथ ही आगमी राजस्थान चुनाव में भी बसपा इसका फायदा उठाने की कोशिश करेगी. वहीं, मायावती अपने इस कदम से सपा और रालोद गठबंधन के गणित को बेअसर करना चाहती हैं.

 

 

Taiwan vs China: स्पीकर पेलोसी के दौरे से क्यों बौखलाया ड्रैगन, चीन-ताइवान के बीच विवाद क्या है?

Latest news