नई दिल्ली. आम आदमी पार्टी के आंतरिक कलह पर पहली बार दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. आप नेता आशुतोष की पुस्तक ‘दि क्रॉउन प्रिंस, दि ग्लेडिएटर एंड दि होप’ के विमोचन समारोह में उन्होंने कहा कि दोनों नेताओं ने सीमाएं लांघी और साजिशें रची. उन्होंने वरिष्ठ आप नेता प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव को पार्टी के प्रमुख पदों से हटाए जाने को सही फैसला करार दिया है.

केजरीवाल ने उस ऑडियो स्टिंग पर खेद जताया जिसमें उन्होंने आप नेताओं अजीत झा और आनंद कुमार के खिलाफ अपशब्दों का प्रयोग किया था. उन्होंने कहा, ‘मैं भी मनुष्य हूं और मुझसे भी गलतियां हो जाती हैं. मैं उस समय बहुत गुस्से में था. जिस तरह की भाषा मैंने प्रयोग की, उससे बच सकता था.’

केजरीवाल ने बताया कि पिछले साल जून में पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में वह रोए थे क्योंकि उन्हें नीचे दिखाने के लिए ढेर सारे षड्यंत्र रचे जा रहे थे. लोग उनके ऊपर व्यक्तिगत हमले भी कर रहे थे. उन्होंने कहा, ‘संभवत: मेरे लिए इसे भावनात्मक रूप से संभाल पाना मुश्किल था. इस वजह से मैं भावुक हो गया.’

केजरीवाल ने कहा कि उनके लोक केंद्रित शासन का मॉडल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मॉडल से बेहतर है. साथ ही आरोप लगाया कि मोदी का मॉडल देश के मुठ्ठी भर धनी लोगों तक केंद्रित है.