श्रीनगर. जम्मू एवं कश्मीर के अलगाववादी नेता मुहम्मद यासीन मलिक ने विस्थापित कश्मीरी पंडितों के लिए प्रदेश में समग्र टाउनशिप का विरोध करते हुए उसे ‘नफरत की बस्ती’ करार दिया. जम्मू एवं कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के प्रमुख ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘हम ऐसी नफरत की बस्ती को कभी मंजूरी नहीं देंगे और इसका पुरजोर विरोध करेंगे.’ उन्होंने  ने कहा, ‘जम्मू एवं कश्मीर के मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद ने कश्मीर में सत्ता की खातिर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से निकाह किया है. कश्मीरी पंडितों के तथाकथित समग्र टाउनशिप के लिए मुख्यमंत्री का गृहमंत्री को आश्वासन देना कश्मीर को सांप्रदायिक हिंसा की आग में झोंकने की एक बड़ी साजिश है.’

उन्होंने कहा कि राज्य का सांप्रदायिक सद्भाव व आपसी सह-अस्तित्व का अपना एक इतिहास रहा है. सन् 1947 में भड़के सांप्रदायिक दंगों के समय कश्मीर घाटी में एक भी अल्पसंख्यक को छुआ तक नहीं गया, जबकि जम्मू में हजारों मुस्लिमों को मौत के घाट उतार दिया गया. मिश्रित संस्कृति का असली मायने तो यह है. उन्होंने कहा कि शहर के मध्य में पंडितों की दुकानें हैं और उनके ग्राहक मुसलमान हैं. क्या आप (सरकार) उन्हें भी उसी टाउनशिप में बसाएंगे, जो वास्तव में एक यहूदी बस्ती हो जाएगी. मलिक ने कहा कि सरकार के प्रस्ताव के गंभीर परिणाम होंगे और इस प्रस्ताव के खिलाफ उन्होंने 10 अप्रैल को शांतिपूर्ण विरोध-प्रदर्शन व हड़ताल का आह्वान किया.

IANS

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App