नई दिल्ली. सोशल मीडिया में मौजूद शरारती तत्वों पर नकेल कसने के लिए केंद्र सरकार ने सोशल मीडिया के प्रयोग को लेकर एडवाइजरी जारी की है. पिछले कुछ सालों में देश के कई कोनों में  सांप्रदायिक घटनाओं में इजाफ़ा हुआ है.
 
गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को निर्देश जारी कर कहा है कि धार्मिक भावनाएं भड़काने वालों के खिलाफ प्रशासन सख्त कार्रवाई करे. इसके अलावा मंत्रालय इन सभी घटनाओं पर नजर रखने के लिए एक अलग विभाग बनाने पर भी विचार कर रहा है. 
 
देश में जून 2015 तक 330 सांप्रदायिक घटनाएं घटीं जिनमें 51 लोगों की जान चली गई. गृह मंत्रालय सांप्रदायिक सौहार्द्र बनाए रखने के लिए विभिन्न समुदायों के बीच संवाद बढ़ाने के लिहाज से एक मंच स्थापित करने पर भी विचार कर रहा है.
 
आपको बता दें कि दादरी कांड में जिस तरह से सोशल मीडिया का प्रयोग किया गया. उसके बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट करके प्रदेश का माहौल खराब करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आदेश दिया है.
 
अखिलेश ने कहा है कि आम जनता की तरफ से सोशल मीडिया का बड़े पैमाने पर प्रयोग किया जा रहा है. कुछ शरारती तत्व माहौल खराब करने और अश्लील सामग्री या फोटो व्हाट्सएप पर डाल देते है जिससे माहौल खराब हो जाता है और सांप्रदायिक दंगे भड़क जाते हैं.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App