नई दिल्ली. पूर्व होम सेक्रेटरी और बीजेपी लीडर आरके सिंह ने यह खुलासा किया है कि भारत भगोड़े और मोस्ट वॉन्टेड अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम को पाकिस्तान में ही ठिकाना लगाने की तैयारी में था लेकिन मुंबई पुलिस के कुछ अफसरों की वजह से पूरा ऑपरेशन चौपट हो गया. सिंह ने दावा किया कि अटलजी की सरकार के वक्त इस ऑपरेशन के लिए छोटा राजन गैंग के लोगों को ट्रेनिंग भी दी गई थी. हालांकि उन्होंने साथ ही यह भी कहा कि मैं इस न्यूज को कन्फर्म नहीं कर सकता. मैंने यह सब सुना है और मेरे पास ठोस सबूत नहीं हैं. 
 
छोटा राजन गिरोह के लोग भी ऑपरेशन में थे शामिल
सिंह ने रविवार रात एक अंग्रेजी चैनल से बातचीत में बताया कि जब अटल बिहारी वाजपेयी पीएम थे तब भारत सरकार ने छोटा राजन गिरोह के कुछ लोगों को इस मिशन से जोड़ा और उन्हें सीक्रेट लोकेशन्स पर ट्रेनिंग देनी शुरू की. हालांकि, दाऊद से जुड़े मुंबई पुलिस के कुछ अफसर ट्रेनिंग कैंप पर इन लोगों को अरेस्ट करने पहुंच गए. सिंह ने कहा कि मुंबई पुलिस यह कहती पाई गई कि उसके पास ट्रेन्ड किए जा रहे लोगों के खिलाफ वॉरंट है.
 
दूसरे ग्रुप्स से ऑपरेशन करवाने की सलाह दी
पाकिस्तान द्वारा दाऊद के वहां न होने की बात कहे जाने को शर्मनाक करार देते हुए सिंह ने कहा कि दाऊद को लाने के लिए ‘दूसरे तरीके’ ही अपनाने होंगे. यह पूछे जाने पर कि भारत को ऐसा करने से कौन रोक रहा है? इस पर उन्होंने कहा, ”राजनीतिक इच्छाशक्ति और फैसला. प्रधानमंत्री को अपनी एजेंसियों को आदेश देना है.” सिंह ने यह भी कहा कि दूसरे ग्रुप्स को ट्रेन्ड करके दाऊद को ठिकाने लगाने के ऑपरेशन को अंजाम दिया जा सकता है. आतंकवादी हमलों से निपटने के लिए भारत को इजरायल जैसी रणनीति अपनानी होगी.
एजेंसी इनपुट भी 
 

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App