कोलकाता: राफेल डील को लेकर कांग्रेस ने बीजेपी को चारों तरफ से घेरना शुरू कर दिया है. कांग्रेस के 50 नेता एक महीने तक 100 शहरों में राफेल डील को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे जिसकी शुरूआत शनिवार को पूर्व वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने की. उन्होंने कहा कि रफेल गंभीर मुद्दा है जिसकी हर पहलू की जांच होनी चाहिए.

कोलकाता में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में पी चिदंबरम ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने फ्रांस के साथ 526 करोड़ में 126 राफेल लडाकू विमानों का सौदा किया था जिनमें से 18 विमान फ्रांस भारत को मुहैया करवाने वाला था और बाकी के विमानों का निर्माण भारत में ही होना था. यूपीए सरकार की डाल के मुताबिक अगर बजट देखा जाए तो 36 विमानों का बजट करीब 18940 करोड़ रूपये पड़ता.

उधर नरेंद्र मोदी सरकार ने राफेल विमानों का जो सौदा फ्रांस सरकार से किया है उसका वो खुलासा नहीं कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि जिन 36 विमानों का सौदा भारत ने फ्रांस की कंपनी के साथ किया है उसकी जानकारी साझा करने में सरकार कतरा रही है.

बतौर पूर्व वित्त मंत्री यह बात सामने आई है कि राफेल सौदे पर 60145 करोड़ रूपये खर्च होंगे यानी एक विमान के लिए 1670 करोड़ रूपये देने पडेंगे. राफेल डील पर सरकार को घेरने की कांग्रेस ने पूरी तैयारी कर ली है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 6 सदस्यीय टीम का गठन किया है.

पढ़ें- जयपुर में राहुल गांधी की रैली में एक शख्स ने की सवाल पूछने की कोशिश, कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कर दी पिटाई

राफेल डील पर मोदी सरकार के खिलाफ सोनिया गांधी समेत विपक्षी सांसदों का हल्ला बोल, JPC जांच की मांग

राफेल डील पर मोदी सरकार के खिलाफ राहुल गांधी की कांग्रेस का एक महीने का धरना-प्रदर्शन 25 अगस्त से

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App