देहरादून: उत्तराखंड कांग्रेस के अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने वंदे मातरम पर अजीबो-गरीब बयान दिया है. किशोर उपाध्याय ने कहा कि वो वंदे मातरम नहीं गाएंगे. अगर किसी को हिम्मत है तो वो उन्हें उत्तराखंड से बाहर निकाल कर दिखाए. ये लोग ऐसी बाते कर रहे हैं कि बीजेरी सरकार बनने से पहले यहां कोई वंदेमातरम नहीं गाते थे. हम लोग बचपन से ही वंदेमातरम गाते आ रहे हैं. 
 
साथ ही उपाध्याय ने बीजेपी को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर आप मुझसे जबरदस्ती वंदे मातरम गाने को कहेंगे तो मैं नहीं गाऊंगा. मैं आपको चैलेंज करता हूं कि आप मुझे उत्तराखंड से बाहर निकाल कर दिखाइए. किशोर ने कहा कि वे लोग इस तरीके से चीजों को लोगों पर थोप नहीं सकते. उन्होंने कहा कि मैं अगले एक महीने तक किसी कार्यक्रम में वंदेमातरम नहीं गाएंगे. वंदेमातरम से देशभक्ति साबित नहीं होती.
 
 
दरअसल, हाल ही में उत्तराखंड के उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत ने कहा था कि- उत्तराखंड में रहना होगा तो वंदे मातरम कहना होगा. जिस पर जवाब देते हुए किशोर उपाध्याय ने वंदे मातरम नहीं गाने की बात कही. वहीं, सूबे के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी अपने मंत्री धन सिंह के बयान का समर्थन किया था. 
 
 
इस पर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने कहा कि ऐसा करके कांग्रेस पुराने रीति-रिवाजों को तोड़ रही है, जिसके अनुसार किसी भी आधिकारिक कार्यक्रम को राष्ट्र गीत गाकर समाप्त किया जाता है. अगर वह वंदेमातरम नहीं गाना चाहते तो कोई जबरदस्ती नहीं है. जनता ने उन्हें इसका जवाब उन्हें चुनावों में दे दिया है. यही कांग्रेस की संस्कृति रही है.