बरेली. अगले साल उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं, सभी राजनैतिक पार्टियों ने अपनी कमर कस ली है. मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवारी के चेहरे के साथ चुनावी मैदान में उतरने की बात करने वाली भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने अब अपना इरादा बदल लिया है. प्रदेश पार्टी अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि चुनाव में बीजेपी की तरफ से मुख्यमंत्री पद के लिए कोई चेहरा नहीं होगा.
 
मौर्य ने बरेली में रविवार को कहा कि बीजेपी आगामी विधानसभा चुनाव के लिए बिना किसी को चेहरा बनाए बगैर चुनाव लड़ेगी. मौर्य ने कहा कि सभी राजनीतिक दलों को बीजेपी के सीएम चेहरे का इंतजार है. बीजेपी अपनी साफ नीति पर चलते हुए बिना चेहरे के चुनाव लड़ेगी.
 
उन्होने कहा कि बीजेपी विश्व की सबसे सच्ची और बड़ी लोकतांत्रिक पार्टी है. पार्टी का हर कार्यकर्ता सीएम का चेहरा है, इसलिए सीएम का चेहरा घोषित करने की आवश्यकता नहीं है.
 
मौर्य ने कहा कि बीजेपी ने दिल्ली और असम में सीएम पद का चेहरा घोषित किया था जिनमें उसे केवल असम में ही जीत मिली जबकि दिल्ली में हार का सामना करना पड़ा. बाद में महाराष्ट्र हरियाणा और झारखण्ड में बिना चेहरा घोषित किए चुनाव लड़ा गया तो वहां पार्टी की बड़ी जीत हुई.
 
बीजेपी नेता ने दावा किया कि राज्य के आगामी विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 300 से ज्यादा सीटें मिलेंगी और पार्टी केन्द्रीय संसदीय बोर्ड जिसका भी नाम घोषित करेगा वही उत्तर प्रदेश के विधायक उसे ही सीएम मानेंगे.