लखनऊ. उत्तर प्रदेश में 2017 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक क्रियाकलाप जोरों पर हैं. लगभग सभी नेता अपने राजनीतिक नफा नुकसान का हिसाब लगाकर पार्टियां बदलने की कोशिश में लगे हैं. इसी क्रम में खबरें आ रही है कि यूपी से वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और पूर्व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी पार्टी में अपनी उपेक्षा से नाराज हैं और वो बीजेपी का दामन थाम सकती हैं. 
 
खबरों के अनुसार रीता इस बात से खासी नाराज है कि वो उनके यूपी में रहते हुए शीला दीक्षित को कांग्रेस का सीएम कैंडिडेट घोषित किया गया है, और उनकी उपेक्षा की गई है. सोशल मीडिया में यह खबर वायरल है कि रीता बहुगुणा किसी भी समय भाजपा के साथ जा सकती हैं, बता दें कि रीता बहुगुणा उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री हेमवती नंदन बहुगुणा की बेटी हैं.
 
आपको बता दें कि रीता बहुगुणा जोशी के भाई विजय बहुगुणा जोकि उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हैं. उन्होंने भी हाल ही में कांग्रेस का साथ छोड़ भाजपा का हाथ थाम लिया था. माना जा रहा है कि भाई विजय के नक्शे कदम पर चलते हुए रीता बहुगुणा जोशी भी बीजेपी का दामन छाम सकती हैं. 
 
वहीं इस मामले में रीता बहुगुणा की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी है. हालांकि उनके भाई और कांग्रेस से बगावत कर भाजपा में शामिल हुए विजय बहुगुणा का यह कहना है कि यह खबर महज अफवाह बताया है.