लखनऊ. समाजवादी पार्टी में मची कलह ऊपरी तौर पर भले ही खत्म हो गई हो लेकिन आपसी तल्खी अब भी दिख रही है. पार्टी के नए प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव ने अब सात युवा नेताओं को पार्टी से निकाल दिया है. इन्हें अखिलेश यादव का करीब बताया जा रहा है. सात नेताओं में तीन विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) शामिल हैं.
 
ख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
युवा नेताओं पर यह कार्रवाई पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव के खिलाफ नारेबाजी को लेकर की गई है. इन सात नेताओं में सुनील सिंह यादव (एमएलसी), अनांद भदौरिया (एमएलसी), संजय लाथर (एमएलसी), मोहम्मद ऐबाद (यूथ ब्रिगेड के प्रदेश अध्यक्ष), ब्रिजेश यादव (राज्य अध्यक्ष, समजावादी यवुजन सभा), गौरव दूबे (समाजवादी युवा सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष) और दिग्विजय (छत्र सभा के राज्य अध्यक्ष) शामिल हैं. 
 
इन सात नेताओं से पहले शिवपाल यादव ने रविवार को रामगोपाल यादव के भांजे अरविंद प्रताप यादव को भी पार्टी से निकाल दिया था. अरविंद को पार्टी से निकालने की वजह अनुशासनहीनता और पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने को बताया गया है. 
 
बता दें कि मुलायम परिवार में कलह के वक्त रामगोपाल यादव जहां मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के पक्ष में खड़े थे, वहीं शिवपाल रामगोपाल यादव के विरोध में थे. बताया जा रहा कि शिवपाल यादव के ये निर्णय उसी तनातनी का नतीजा हैं, जो उन्होंने यूपी प्रदेश अध्यक्ष का पद संभालते ही ले लिए हैं.