लखनऊ. उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव की कोशिशें लगभग कामयाब हो चुकी हैं. मुलायम ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और शिवपाल के बीच का झगड़ा लगभग सुलझा दिया है. इसी का नतीजा है कि अखिलेश ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है कि शिवपाल को सभी मंत्रालय वापस किए जाएंगे.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्विटर पर लिखा है कि शिवपाल को विभाग वापस किए जाएंगे और गायत्री प्रजापति को कैबिनेट में शामिल किया जाएगा. चाचा-भतीजे के बीच का यह विवाद लगभग सुलझता हुआ दिखाई दे रहा है.
 
 
जहां एक ओर अखिलेश ने ट्विटर पर यह जानकारी दी है तो वहीं शिवपाल ने कहा है कि पार्टी और परिवार में अब सब ठीक है. उन्होंने कहा है कि साल 2017 के चुनाव के बाद अखिलेश ही मुख्यमंत्री बनेंगे. 
 
बता दें कि अखिलेश-शिवपाल विवाद ने गुरुवार को काफी बड़ा रूप ले लिया था. गुरुवार की देर रात शिवपाल ने मंत्री पद के साथ-साथ पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से भी इस्तीफा दे दिया था. हालांकि अखिलेश ने इस्तीफा नामंजूर कर दिया था. 
 
वहीं शिवपाल के इस्तीफे के बाद मुलायम ने सख्त रुख अख्तियार कर लिया था. शुक्रवार की सुबह से ही पार्टी में पड़ी फूट को खत्म करने के लिए मुलायम ने कमर कस ली थी. सबसे पहले उन्होंने शिवपाल से मुलाकात की फिर अखिलेश से मिले. मुलायम ने गायत्री प्रसाद प्रजापति और राजकिशोर सिंह को भी मंत्रिमंडल में वापस लेने का निर्देश दिया और शिवपाल के सभी इस्तीफों को भी अस्वीकार कर दिया था.
 
क्या है मामला ? 
 
बता दें कि उत्तर प्रदेश में मुलायम सिंह यादव ने जब अखिलेश यादव को प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटा के शिवपाल सिंह को यह पद दिया उसके कुछ ही घंटों के बाद अखिलेश ने अपने चाचा मंत्री शिवपाल यादव से पीडब्लूडी समेत 7 मंत्रालय वापस ले लिए थे. इसके अलावा बुधवार को जब पार्टी के वरिष्ठ नेता जब दिल्ली में बैठक में व्यस्त थे तब अखिलेश ने 23 जिलों के डीएम के तबादले कर दिए थे.