लखनऊ. विधानसभा चुनावों से ठीक पहले उत्तर प्रदेश की राजनीति में भूचाल आ गया है. मुख्यमंत्री अखिलेश के द्वारा चाचा शिवपाल यादव से पीडब्ल्यूडी सहित 7 मंत्रालय वापस लिये जाने के बाद उनके मंत्रिमंडल से इस्तीफे की अटकलें तेज हो गई थी. लेकिन शिवपाल यादव ने बुधवार की सुबह प्रेस कांफ्रेंस करके इस्तीफे की अटकलों का पटाक्षेप कर दिया.  
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
शिवपाल यादव ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि चुनाव की घड़ी में हम नेताजी मुलायम सिंह यादव के साथ हैं. नेताजी ने हमें जो संगठन की जिम्मेदारी सौंपी हैं उसे निभायेंगे. साथ ही मंत्रालय छीन जाने के मुद्दे पर शिवपाल ने कहा कि मंत्रालय देना और वापिस ले लेना मुख्यमंत्री का अधिकार हैं, इसलिए इस मुद्दे को तूल नहीं देना चाहिए.
 
 
बता दें कि मंगलवार को सीएम ने चाचा शिवपाल के चहेते आईएएस दीपक सिंघल को मुख्य सचिव पद से हटा दिया था. जिसके बाद प्रतिक्रिया स्वरुप मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाकर शिवपाल यादव को प्रदेश अध्यक्ष बना दिया था. उसके बाद मुख्यमंत्री ने अपने चाचा शिवपाल से पीडब्ल्यूडी सहित 7 मंत्रालय छीनकर उनका कद छोटा करने की कोशिश की थी. 
 
बता दें कि शिवपाल और अखिलेश यादव में सत्ता संघर्ष की ये लड़ाई सालों से देखी जा रही है. इससे पहले मुख्तार अंसारी के कौमी एकता दल के समाजवादी पार्टी में विलय को लेकर दोनों में तकरार हो चुकी है.