नई दिल्ली. लेफ्ट राजनीति के गढ़ जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी यानी जेएनयू के छात्र संघ चुनाव में सेंट्रल पैनल के लिए मतों की गिनती का काम तेजी से आगे बढ़ रहा है. शाम 7 बजे तक 3046 वोट गिन लिए गए हैं जिसके बाद अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, महासचिव और संयुक्त सचिव पद पर लेफ्ट कैंडिडेट्स आगे चल रहे हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
जेएनयू छात्र संघ का चुनाव इस साल मौजूदा अध्यक्ष कन्हैया कुमार का संगठन AISF नहीं लड़ रहा है. इस चुनाव में धुर विरोधी वामपंथी संगठन AISA और SFI ने हाथ मिलाकर यूनाइटेड लेफ्ट बनाया है. कन्हैया के संगठन AISF ने यूनाइटेड लेफ्ट का समर्थन किया है.
 
इस वक्त तक जेएनयू के स्कूल ऑफ सोशल साइंसेज के 1515, स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज के 800, स्कूल ऑफ लैंग्वेज के 400 और स्पेशल सेंटर्स के 331 वोटों की गिनती हो चुकी है. जेएनयू छात्र संघ चुनाव में करीब 8000 छात्र वोटर के तौर पर रजिस्टर्ड हैं जिनमें 59 परसेंट ने इस बार वोट किया है. अनुमान है कि देर रात या कल सुबह तक अंतिम नतीजा सामने आ पाएगा.
 
 
अध्यक्ष पद पर यूनाइटेड लेफ्ट से AISA के मोहित 1213 वोट लेकर सबसे आगे चल रहे हैं. दूसरे नंबर पर नए छात्र संगठन बिरसा आंबेदकर फुले स्टुडेंट्स एसोसिएशन यानी BAPSA के राहुल 1039 वोट के साथ हैं. ABVP की जाह्नवी को 489, SFS के दिलीप को 110 और NSUI के सन्नी को 87 वोट मिले हैं. 
 
उपाध्यक्ष पद के लिए यूनाइटेड लेफ्ट से SFI के अमल 1575 वोट के साथ आगे चल रहे हैं. BAPSA के बंशीधर 511, ABVP के रवि 553 और NSUI की मोहिनी 105 वोट जुटा सके हैं. महासचिव पद के चुनाव में यूनाइटेड लेफ्ट से SFI की सतरुपा 1488 वोट, BAPSA की मणिकांता 590 वोट, ABVP के विजय 690 वोट और NSUI के स्वप्निल 73 वोट हासिल कर चुके हैं. 
 
संयुक्त सचिव पद पर SFI से टूटकर बने DSF की बढ़त को AISA ने छीना
 
संयुक्त सचिव पद पर पहले आगे चल रहे DSF के प्रतिम घोषाल अब 891 वोट के साथ दूसरे नंपर पर खिसक गए हैं. पहले नंबर पर यूनाइटेड लेफ्ट से AISA के तबरेज़ 987 वोट के साथ सबसे आगे चल रहे हैं. BAPSA की आरती 398, ABVP के ओमप्रकाश 470 और NSUI के मुकेश 125 वोट जुटा चुके हैं.