बेंगलुरु. तमिलनाडु को कावेरी नदी का जल देने के मामले में आज कर्नाटक बंद का ऐलान किया गया है. कन्नड़ समर्थक संगठनों ने इस बंद का ऐलान किया है. इतना ही प्रदर्शनकारियों को कई संगठन, यूनियन और राजनीतिक दलों का साथ भी मिल रहा है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
राजधानी में जबरन थिएटरों को बंद कराया जा रहा है. प्रदर्शनकारियों ने विरोध आंदोलन को तेज करते हुए बेंगलुरु में तमिल फिल्मों की स्क्रीनिंग को भी रोक दिया है. इसके अलावा दोनों राज्यों में एक दूसरे के यहां आने जाने वाली बस सेवा पर भी रोक लगा दी गई है. जिसकी वजह से लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. 
 
सूप्रीम कोर्ट ने दिया था आदेश
वहीं प्रदर्शन के बीच कर्नाटक सरकार ने सूप्रीम कोर्ट के आदेशों का पालन करत हुए मंगलवार आधी रात से ही तमिलनाडू को कावेरी का पानी छोड़ना शुरू कर दिया है. बता दें कि उच्चतम न्यायालय ने कर्नाटक को निर्देश दिया था कि तमिलनाडु के किसानों की हालत पर ध्यान देने के लिए अगले 10 दिन तक उस राज्य को प्रतिदिन 15000 क्यूसेक पानी छोड़ा जाए. उच्चतम न्यायालय के निर्देश के बाद किसानों के संगठनों ने तत्काल प्रतिक्रिया देते हुए बंद का आह्वान भी किया था.