नई दिल्ली. न्यूनतम मजदूरी बढ़ाने को लेकर दिल्ली सरकार की फाइल उपराज्यपाल (एलजी) नजीब जंग ने आपत्ति के साथ वापस भेज दी है. इसके बाद से फिर से आम आदमी पार्टी और उपराज्यपाल के बीच जंग ​छिड़ सकती है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
दिल्ली सरकार ने 24 अगस्त को न्यूनतम मजदूरी की फाइल उपराज्यपाल के पास भेजी थी. दिल्ली के श्रम मंत्री गोपाल राय के फाइल पास करवाने गए थे लेकिन उन्हें फाइल लौटा दी गई. उपराज्यपाल ने फाइल को आपत्ति के साथ वापस कर दिया. 
 
बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 16 अगस्त को न्यूनतम मजदूरी 50 प्रतिशत तक बढ़ाने की घोषणा की थी. इस बढ़ोतरी की अधिसूचना जारी होने के बाद दिल्ली में अकुशल श्रमिक की न्यूनतम मजदूरी 9,568 रुपये से बढ़कर 14000 रुपये, अर्ध कुशल श्रमिक की 10,600 रुपये से बढ़कर 15,400 रुपये और कुशल श्रमिक की 11,600 रुपये से बढ़कर 17,000 रुपये हो जाएगी.
 
दिल्ली सरकार और एलजी के बीच लंबे से टकराव जारी है. इस मसले के बाद उसके फिर से बढ़ने की संभावना है. एक ​बार फिर से आरोप-प्रत्यारोप का दौरा शुरू हो सकता है.
 
वहीं, पंजाब आडियों पर गोपाल राय ने कहा कि जिस तरह से बौखलाहट दिल्ली के चुनाव के समय थी, वही बेचैनी पंजाब मे भी दिख रही है, शुभ संकेत है कि पंजाब में भी आम आदमी पार्टी की सरकार बनेगी.