नई दिल्ली. केजरीवाल सरकार और उपराज्यपाल के बीच अधिकारों की लड़ाई को आज उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने नया रंग देते हुए उन्हें दिल्ली में बारिश के कारण हुए जलभराव पर जवाब देने को कहा है. सिसोदिया ने ट्वीट कर लिखा कि ‘अपने अधिकारों को लेकर मीडिया में 50 से ज्यादा इंटरव्यू देने वाले उपराज्यपाल दिल्ली के जलभराव और जाम पर बयान क्यों नहीं दे रहे?’
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
उन्होंने आगे लिखा कि ‘उपलजयपाल ने अपने पसंद के जिन अफसरों को तैनात किया है उनसे काम भी लेकर दिखाएं. संविधान में अधिकारों के साथ साथ कर्तव्यों का भी चैप्टर है.’ इतना ही मनीष सिसोदिया ने यह भी ट्वीट कर बताया कि ‘आपके तैनात अफसर ना तो मंत्रियों की मीटिंग में आ रहे है और ना ही उनकी सुन रहे हैं. कुछ तो यह भी बता जाते हैं कि इसके लिए उन्हें मना किया है.’
 
मनीष सिसोदिया ने उपराज्यपाल को चुनौती देते हुए यह भी लिखा कि ‘एलजी साहब अपने तैनात किये अफसरों को लेकर बाहर निकलें और दिल्ली वालों की जाम और जलभराव की समस्या को दूर करें.’ बता दे कि उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के यह ट्वीट्स इसलिए आये क्योंकि दिल्ली हाई कोर्ट उपराज्यपाल को दिल्ली का बॉस बता चुका है.
 
उसके बाद से केजरीवाल सरकार और उपराज्यपाल के बीच अधिकारी की लड़ाई और ज्यादा तेज़ हो चुकी है. ऐसे में आज जब सुबह हुई तेज़ बारिश के कारण जाम और जलभराव की समस्या से दिल्ली वालों को रूबरू होना पड़ा तो दिल्ली सरकार की तरफ भी उंगलियां उठने लगी.  
ऐसे में मनीष सिसोदिया की ओर से उपराज्यपाल को समस्याओं के समाधान के लिए जिम्मेदार बताते हुए एक के बाद एक ट्वीट देखने को मिले.