नई दिल्ली. आम आदमी पार्टी से अलग हुए सदस्य योगेंद्र यादव ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को चिट्ठी लिखकर खुली चुनौती दी है. योगेंद्र यादव ने चिट्ठी में दावा किया है कि दिल्ली सरकार ने अपने कार्यकाल में 399 शराब की दुकानों को लाइसेंस जारी किया है. साथ ही कहा है कि अगर केजरीवाल इस बात को साबित कर देते हैं, तो वह राजनीति से संन्यास ले लेंगे.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
यादव ने पश्चिमी दिल्ली के नवादा में शराब की दुकान के खिलाफ जनसुनवाई में ये बातें कहीं. स्वराज अभियान ने सराकर को शराब की दुकानें 11 सितंबर तक बंद करने का अल्टिमेटम दिया है. 
 
योगेंद्र यादव ने चिट्ठी में आप सरकार के इस दावे को झूठा बताया है कि उसने अभी तक केवल 6 नए लाइसेंस जारी किए हैं. उन्होंने लिखा है, ‘दिल्ली में सत्ता में आने के बाद आपकी सरकार ने 6 नहीं कम से कम 399 लाइसेंस जारी किए हैं यानी आपने लगभग हर दिन एक लाइसेंस जारी किया है.’ यादव ने आप पार्टी को चुनौती देेते हुए कहा है कि अगर उनका दावा गलत है, तो वे इसे साबित करें. अगर यादव सही हैं, तो जनता से माफी मांग कर कुछ सवालों का जवाब दे दें. 
 
योगेंद्र यादव ने ये सवाल भी पूछे हैं कि आखिर दिल्ली सरकार लोगों से यह सूचना क्यों छुपा रही है. शराब की दुकान खोलने से पहले जनता की राय क्यों नहीं ली गई. शराब बिक्री में कमाए 3589 करोड़ रुपये में से एक करोड़ भी नशामुक्ति के लिए क्यों खर्च नहीं किया. इस चिट्ठी के साथ योगेंद्र यादव ने 399 दुकानों/स्टोर/रेस्टोंरेंट के नाम, पता और लाइसेंस नंबर की सूची भी दी है.