लखनऊ. बीएसपी प्रमुख मायावती ने आज सपा अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव के गढ़ आज़मगढ़ में महारैली के जरिए पूर्वांचल में चुनावी बिगुल फूंका. अपनी रैली में उन्होंने कांग्रेस, बीजेपी और सपा समेत सभी पर निशाना साधा. रैली में उन्होंने कहा कि अच्छे दिन के वादे बुरे दिन में बदल गए. उन्होंने कहा कि बीजेपी ने सांप्रदायिकता बढ़ाने का काम किया है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रैली में मायावती ने कहा कि कुछ लोग बसपा छोड़कर जा रहे हैं या कुछ को पार्टी निकाल रही है. ऐसे लोगों को भाजपा बिना परखे अपना रही है. बसपा के रिजेक्टेड माल को भाजपा अमित शाह माला पहना रहे हैं और गले लगा रहे हैं.
 
रैली को संबोधित करते हुए बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि आजादी के बाद 37 सालों तक यूपी में कांग्रेस की सरकार रही है, लेकिन गलत नीतियों के कारण राज्य ही नहीं केंद्र से भी बाहर हो चुकी है. बीएसपी की सरकार बनने से सर्वजन हिताय, सर्वजन सुखाय का सपना पूरा होगा.
 
मायावती ने कहा कि कांग्रेस आरक्षण के नाम पर गुमराह करने की कोशिश कर रही है. आर्थिक आधार पर कांग्रेस का 10 प्रतिशत आरक्षण देने का वादा मात्र छलावा है. कांग्रेस की सीएम उम्मीदवार शीला दीक्षित पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि दिल्ली में सीएम रहते हुए यूपी के लोगों को गंदगी के लिए जिम्मेदार ठहराया था. 
 
मायावती ने मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि वह अल्पसंख्यकों को ‘‘खौफ’ में रखने के लिए गोहत्या और ‘लव जिहाद’ जैसे मुद्दे उठा रही है. उन्होंने यह भी कहा कि मोदी सरकार ‘‘दलित विरोधी’ है. केंद्र की राजग सरकार को ‘‘पूंजीपतियों की हितैषी’ करार देते हुए मायावती ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2014 के आम चुनाव से पहले लोगों से किए गए सारे वादे भूल गए हैं.