नई दिल्ली. संसद में आज दोनों सदनों की कार्यवाही शुरू होते ही मोगा बस कांड मामले पर हंगामा शुरू हो गया. कांग्रेस ने इस प्रश्नकाल को स्थगित कर मोगा कांड पर चर्चा करने की बाबत स्थगन प्रस्ताव भी दिया, जिसे स्पीकर ने खारिज कर दिया. हंगामे के बीच लोकसभा की कार्यवाही को दो बार स्थगित करना पड़ा, वहीं बाद में राज्यसभा की कार्यवाही भी स्थगित की गई.

इसके साथ ही राज्यसभा में मोगा में बच्ची और मां को चलती बस से फेंकने और बच्ची की मौत हो जाने के मोगा के केस पर मायावती ने कहा कि असली दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए. कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि देश की जनता का आक्रोश देखते हुए बस मालिकों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए. मोगा मामले पर अमरिंदर सिंह ने कहा- पंजाब में कानून और व्यवस्था खत्म हो चुकी है इसलिए हमने प्रेजिडेंट रूल की सिफारिश की है. राज्यसभा में सीताराम येचुरी ने कहा, एक मंत्री ने कहा कि मोगा में छेड़छाड़ का जो मामला है, वह ‘ऐक्ट ऑफ गॉड’ है. मुझे नहीं लगता कि ऐसे मिनिस्टर को सरकार में होना चाहिए. वहीं आनंद शर्मा ने कहा कि सरकार की पहली प्रतिक्रिया थी कि पीड़ित को कोई प्रोटेक्शन न दी जाए.

मोगा बस कांड की आंच से राज्यसभा में भी माहौल गर्म रहा, वहीं लोकसभा में जेडीयू ने नीतीश कुमार को नेपाल यात्रा की अनुमति नहीं मिलने का मामला उठाया. सदन में जीएसटी और रीयल एस्टेट रेगुलेशन बिलों पर भी घमासान के आसार हैं. लोकसभा में जीएसटी यानी गुड्स एंड सर्विस टैक्स बिल पर चर्चा होनी है. जबकि विपक्ष से निपटने के लिए प्रधानमंत्री ने मंत्रियों के कोर ग्रुप की बैठक बुलाई. सदन में पीएम नरेंद्र मोदी भी मौजूद हैं.

रीयल एस्टेट रेगुलेशन बिल मंगलवार को राज्यसभा में पेश होना है. लेकिन मोदी सरकार के लिए सबसे बड़ी मुसिबत ऊपरी सदन में अल्पमत है. दूसरी ओर, कांग्रेस ने दोनों सदनों में जीएसटी बिल के विरोध का फैसला किया है. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पहले ही कह चुके हैं कि वह रीयल एस्टेट बिल का भी विरोध करेंगे. विपक्ष की रणनीति से निपटने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने भी कैबिनेट की बैठक बुलाई. मंत्रियों के कोर ग्रुप में जीएसटी और रीयल एस्टेट बिल के अलावा काले धन से जुड़े बिल पर चर्चा हुई. जबकि कांग्रेस हाईकमान सोनिया गांधी ने बुधवार को सुबह 9:15 बजे कांग्रेस संसदीय दल की बैठक बुलाई है.

IANS से भी इनपुट 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App