नई दिल्ली. बीजेपी ने सरकारी गवाह बन चुके लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादी डेविड कोलमैन हेडली का इशरत जहां को लश्कर का आतंकी बताने वाला बयान आने के बाद कांग्रेस से माफी मांगने के लिए कहा है. बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन ने कहा, “जो लोग इशरत जहां को शहीद बता रहे थे, उसे बिहार की बेटी बता रहे थे. उनकी आंख अब खुल गई होगी.
 
उन्होंने आगे कहा कि हेडली के बयान के बाद उन नेताओं को अपना बयान वापस ले लेना चाहिए. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया और उपाध्यक्ष राहुल को इशरत और लश्कर के उसके साथी आतंकवादियों को मारने वाले नायकों से माफी मांगनी चाहिए.” 
गुजरात में पांच जून 2014 को इशरत जहां एनकाउंटर हुआ था, जिसका नेतृत्व तत्कालीन उप महानिरीक्षक डी. जी. वंजारा ने की थी. वंजारा को बाद में सोहराबुद्दीन शेख एनकाउंटर मामले में सजा हो गई. 
 
शहनवाज ने कहा, “बहादुर पुलिसकर्मियों की सराहना करने की बजाय अपने कर्तव्य के प्रति उनकी गंभीरता पर सवाल उठाए गए और कांग्रेस कार्यकाल में उन्हें जेल भेज दिया गया. अब उनके चेहरों से नकाब हट चुका है.”
 
शहनवाज ने आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस ने बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विरोध करने के लिए आतंकवाद के मुद्दे पर राजनीति की. उन्होंने कांग्रेस पर मामले में राष्ट्रीय खुफिया एजेंसी (एनआईए) और सीबीआई को भी प्रभावित करने का आरोप लगाया.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App