इस्लामाबादः पाकिस्तान में 25 जुलाई को आम चुनाव होने हैं. पाक चुनाव के लिए तीन प्रमुख पार्टियां शाहबाज शरीफ की पीएमएल (एन), बिलावल भुट्टो की पीपीपी और इमरान खान की पीटीआई प्रमुख दावेदार हैं. इन्हीं तीनों पार्टियों में से कोई एक देश की सत्ता पर विराजमान होगा. बहरहाल अभी चुनाव प्रचार का दौर चल रहा है और इस प्रचार के दौर में नेता लोग विभिन्न मुद्दे पर एक दूसरे को घेर रहे हैं. इसमें हमेशा से विकास और भारत का मुद्दा तो है ही लेकिन कुछ नए मुद्दे भी शामिल हुए हैं. आइए जानते हैं कि कौन से प्रमुख तीन मुद्दे या कारक इस चुनाव को प्रभावित कर सकते हैं.

1. सोशल मिडिया और फेक न्यूज- भारत की तरह पाकिस्तान में भी सोशल मीडिया राजनीतिक पार्टियों के प्रचार का एक प्रमुख टूल बन गया है. लेकिन भारत की तरह यहां भी इसका गलत प्रयोग खूब हो रहा है. बीबीसी के एक रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान में लगभग सभी पार्टियां सोशल मिडिया पर एक्टिव हैं और अपने आईटी सेल के द्वारा हजारों फेक एकॉउंट का प्रयोग कर रही हैं ताकि पार्टी के प्रचार को एक ही समय में अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाया जा सके. सोशल मीडिया के द्वारा पार्टी के फायदे और दूसरे को नुकसान पहुंचाने के लिए सोशल मिडिया के द्वारा फेक न्यूज का भी प्रयोग जमकर हो रहा है.

2. धार्मिक-राजनीतिक गठजोड़- पाकिस्तान में राजनीतिक पार्टियों का धार्मिक गठजोड़ भी पार्टियों को जिताने और हराने के लिए एक अहम कारक साबित होगा. पाकिस्तान में चुनावों से पहले ईशनिंदा कानून और उसका दुरूपयोग एक प्रमुख मुद्दा था लेकिन चुनाव के समय में यह मुद्दा उतनी खास अहमियत अब नहीं रख रहा. इसका एक कारण है कि लगभग सभी पार्टियों का धर्म के ठेकेदारों से गठजोड़ है और वह इस पर कुछ भी बोलने से बच रहे. भारत की तरह यहां भी कोई वोट बैंक से समझौता नहीं करना चाहता.

3. नवाज शरीफ के प्रति सहानुभूति- पनामा पेपर्स में जब से नवाज शरीफ का नाम आया है और वह जेल गए हैं, तब से उनके लिए आम मतदाताओं से दो तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आईं हैं. पहला वो लोग एकदम से नवाज को भ्रष्टाचारी मान लिए हैं, दूसरे वे लोग जिनके मन में नवाज शरीफ के प्रति सहानुभूति पैदा हो गई है. खासकर यह सहानुभूति नवाज शरीफ के प्रांत पंजाब में अधिक है. इस सहानुभूति में और भी ईजाफा हुआ है, जब लोगों के नवाज शरीफ की बीमारी का पता चला है. अब देखना यह होगा कि क्या यह सहानुभूति की लहर वोट बैंक में परिवर्तित हो पाएगी या नहीं.

पाकिस्तान चुनावों पर अन्य खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें- 

पाकिस्तान चुनाव 2018: बलूचिस्तान में बीएपी पार्टी दफ्तर के सामने विस्फोट, 20 घायल

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर