कराचीः पाक चुनाव में आरोपों-प्रत्यारोपों का दौर जारी है. पूर्व पाकिस्तानी कप्तान और तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के अध्यक्ष इमरान खान ने उन आरोपों को खारिज किया, जिसमें यह कहा जा रहा है कि पाकिस्तानी आर्मी के सहारे ही इमरान खान अपनी लोकप्रियता बटोर रहे हैं. उन्होंने कराची में एक जनसभा को संबोधित करते हुए लोगों से पूछा कि क्या वे लोग पाकिस्तानी आर्मी के कहने पर ही जनसभा में आए हैं और क्या पाकिस्तानी आर्मी की वजह से वह हर ओपिनियन पोल्स में आगे बढ़ रहे हैं. गौरतलब है कि ओपिनियन पोल्स में इमरान खान की पार्टी पीटीआई ही आगे बढ़ती हुई दिख रही है.

इमरान खान ने इसे भारत और अंतरराष्ट्रीय समुदाय की साजिश बताते हुए कहा कि ये लोग नहीं चाहते कि पाकिस्तान में कोई मजबूत पार्टी सत्ता में आए. अंतरराष्ट्रीय समुदाय दक्षिण एशिया क्षेत्र में चीन की शक्ति को चुनौती देने के लिए भारत को उसके समकक्ष खड़ा करना चाहती है, लेकिन इसमें पाकिस्तान और पाकिस्तानी आर्मी एक बाधा बन रही है. इसलिए पाकिस्तानी आर्मी पर ऐसे आरोप उड़ रहे हैं. इमरान ने कहा कि शरीफ और भुट्टो हमेशा से अंतरराष्ट्रीय समुदाय को खुश करना चाहते हैं.

आपको बता दें कि पाकिस्तान में 25 जुलाई को आम चुनाव होने हैं. पाक चुनाव के लिए तीनों प्रमुख पार्टियों ने अपनी कमर कस ली है और अब चुनाव प्रचार भी तेज कर दिया है. इस बार पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएलएन), इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) और बिलावल भुट्टो की पार्टी पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के बीच कड़ा मुकाबला है. इन चुनावों में तीनों पार्टियां एक दूसरे को कड़ी टक्कर दे रही हैं. एक-दूसरे पर आरोपों और प्रत्यारोपों का दौर भी जारी है.

पाकिस्तान चुनाव 2018: बलूचिस्तान में बीएपी पार्टी दफ्तर के सामने विस्फोट, 20 घायल

इमरान खान को पाकिस्तान का प्रधानमंत्री बनाने के लिए समर्थन देते नजर आए पूर्व क्रिकेटर वसीम अकरम और वकार यूनुस

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर