लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चुनाव आयोग को अली-बजरंगबली वाले बयान पर मिले नोटिस के जवाब में कहा है कि वो आगे से अपने भाषणों में अली बजरंग बली जैसा कोई बयान नहीं देंगे. उन्होंने चुनाव आयोग के नोटिस के बदले दिए लिखित जवाब में कहा कि वो अब से इस तरह की टिप्पणियां नहीं करेंगे. दरअसल यूपी में पहले चरण के चुनाव से पहले मेरठ में जनसभा को संबोधित करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि अगर एसपी-बीएसपी और कांग्रेस को अली पर विश्वास है तो हमें बजरंगबली पर विश्वास है. चुनाव आयोग ने योगी आदित्यनाथ के इस बयान पर संज्ञान लेते हुए उनसे जवाब मांगा था. 

योगी आदित्यनाथ के बयान पर समाजवादी पार्टी नेता और रामपुर से पार्टी के उम्मीदवार आजम खान ने पलटवार करते हुए अपनी जनसभा में बजरंग अली के नारे लगवाए. आजम खान ने कहा कि आपस के रिश्तों को अच्छा करो, अली और बजरंग बली में झगड़ा मत कराओ. मैं एक नाम देता हूं बजरंग अली. इसके बाद आजम खान ने नारे लगवाए कि बजरंग अली तोड़ दुश्मन की नलि, बजरंग अली ले लो जालिमों की बलि. 

ऐसा पहली बार नहीं है कि योगी आदित्यनाथ ने अपने भाषणों में अली और बजरंगबली का जिक्र किया हो. मध्य प्रदेश विधानसभा चुानव के दौरान भी उन्होंने कहा था कि कमलनाथ जी भले ही आपके लिए अली जरूरी हों लेकिन हमारे लिए तो बजरंगबली जरूरी हैं.  पिछले कुछ समय से योगी आदित्यनाथ के बयान काफी सुर्खियां बटोर रहे हैं. योगी आदित्यनाथ ने भारतीय सेना के लिए कहा था कि ये मोदी की सेना है जिसके बाद कांग्रेस ने उनके बयान पर कड़ी आपत्ति दर्ज की थी और कहा था कि कम से कम सेना को राजनीति से दूर रखा जाना चाहिए. योगी की सेना वाले बयान को लेकर भी कांग्रेस ने बीजेपी की चुनाव आयोग से शिकायत की है. 

EC Notice to Mayawati CM Yogi Adityanath: चुनाव आयोग ने मायावती और यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ को भेजा नोटिस, लोकसभा चुनाव रैली में विवादित बयान देने पर 24 घंटे में मांगा जवाब

Lord Hanuman Tuesday Tips: पैसों की किल्लत को दूर करेंगे मंगलवार के ये चमत्कारी टोटके, बरसेगा धन

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App