नई दिल्ली. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ चक्रवात यास की समीक्षा बैठक के लिए 30 मिनट की देरी से पहुंचीं. सूत्रों के मुताबिक, ममता पश्चिम मिदनापुर के कलाईकुंडा हवाई अड्डे पर मौजूद थीं, हालांकि, उन्होंने पीएम का इंतजार किया. बैठक के दौरान पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़, भाजपा विधायक सुवेंदु अधिकारी और अन्य अधिकारी मौजूद थे.

समीक्षा बैठक में आने के बाद ममता ने अधिकारियों को चक्रवात के प्रभाव से संबंधित कागजात सौंपे और कहा कि अन्य बैठकों में जाना है और बैठक हॉल से निकल गईं. ममता ने बाद में स्पष्ट किया कि उन्होंने बैठक से निकलने से पहले पीएम मोदी की अनुमति ली थी.

ममता बनर्जी ने कहा “पीएम ने बैठक बुलाई थी, हमें नहीं पता था कि दीघा में मेरी बैठक थी. मैं कलाईकुंडा गई और पीएम रिपोर्ट दी, दीघा विकास और सुंदरबन विकास के लिए 20,000 करोड़ रुपये- 10,000 करोड़ रुपये मांगे. मैंने उनसे आपको (राज्य के अधिकारियों) को बताया ) मुझसे मिलना चाहता था. मैंने उनकी अनुमति ली और चला गई. उन्होंने कहा, “कल मैं प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करूंगी।”

पीएम मोदी ने किया ओडिशा, बंगाल का हवाई सर्वेक्षण

इससे पहले, पीएम मोदी ने चक्रवात यास से उत्पन्न स्थिति की समीक्षा करने के लिए ओडिशा और पश्चिम बंगाल का दौरा किया. उन्होंने ओडिशा के भद्रक और बालेश्वर जिलों और पश्चिम बंगाल के पुरबा मेदिनीपुर में चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया. भुवनेश्वर में, प्रधान मंत्री ने राहत और पुनर्वास उपायों की समीक्षा के लिए एक बैठक की अध्यक्षता की.

प्रधानमंत्री को बताया गया कि चक्रवात यास के कारण सबसे अधिक नुकसान ओडिशा में हुआ है और पश्चिम बंगाल और झारखंड के कुछ हिस्से भी प्रभावित हुए हैं.

पीएम मोदी ने तत्काल राहत गतिविधियों के लिए 1000 करोड़ रुपये की आर्थिक मदद का ऐलान किया. ओडिशा को तुरंत 500 करोड़ रुपये दिए जाएंगे. पश्चिम बंगाल और झारखंड के लिए और 500 करोड़ रुपये की घोषणा की गई है, जो नुकसान के आधार पर जारी किया जाएगा. नुकसान की सीमा का आकलन करने के लिए सरकार राज्यों का दौरा करने के लिए एक अंतर-मंत्रालयी दल तैनात करेगी, जिसके आधार पर आगे की सहायता दी जाएगी.

Rahul Gandhi Attack On PM Modi : ताली-थाली बजवाकर और चुनावी रैलियां करके पीएम मोदी ने कोरोना को जगह दी, अब दम दिखाओ-लीडर बनो : राहुल गांधी