नई दिल्ली. Kulbhushan Jadhav अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के दबाव के चलते पाकिस्तान ने जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को बड़ी राहत दी है. अब कुलभूषण जाधव उच्च अदालतों में अपनी सज़ा को लेकर अपील कर पाएंगे। आपको बता दें कुलभूषण भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी है, जिन्हें वर्ष 2017 में पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जासूसी के मामलें में मौत की सजा सुनाई थी. इसके तहत कुलभूषण को अपनी सज़ा के लिए अपील करने का अधिकार नहीं था. इसके बाद भारत ने इस मामलें पर अंतरराष्ट्रीय अदालत का रुख किया था, जिसपर कोर्ट ने पाकिस्तान से इस मामलें पर फिर से समीक्षा और पुनर्विचार करने को कहा था.

पाकिस्तान के उच्च सदन में पास हुआ बिल
पाकिस्तान के उच्च सदन ने बुधवार को ‘इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (रिव्यू एंड री-कन्सीडरेशन) ऑर्डिनेंस 2020’ को मंजूरी दे दी है. इस बिल को सदन में कानून मंत्री फारोघ नसीम ने पेश किया, जिसपर सदन ने इसे मंजूरी दे दी है. लगभग पांच महीने पहले यह बिल पाकिस्तान के निचले सदन में पेश किया गया था. इस बिल के राष्ट्रपति के हस्ताक्षर होने के बाद अब पाकिस्तान जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण अपनी सजा के खिलाफ आवाज उठा सकते है.

ईरान में हुए थे गिरफ्तार
कुलभूषण को पाकिस्तान ने साल 2016 में ईरान से गिरफ्तार किया था, जब वो अपने किसी निजी काम से वहां गए थे. भारतीय विदेश मंत्रालय ने उनकी गिरफ़्तारी पर पाकिस्तान को गलत ठहराया और कहा की अब वो नौसेना में नहीं है, वे अपने निजी काम से ईरान गए थे.

यह भी पढ़ें:

Mumbai: मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह फरार घोषित, 30 दिनों के भीतर हाजिर होने का अल्टीमेटम

Encounter In Kashmir पांच आतंकी ढेर, दो गिरफ्तार

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर