नई दिल्लीः  राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण के साथ संसद के बजट सत्र 2018 की शुरुआत हो गई है. राष्ट्रपति संसद के दोनों सदनों के साथ सेंट्रल हॉल में संयुक्त बैठक को संबोधित कर रहे हैं. राष्ट्रपति कोविंद का ये पहला अभिभाषण है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने पहले बजट सत्र को संबोधित करते हुए सभी देशवासियों को त्योहारों और गणतंत्र दिवस की बधाई दी. उन्होंने कहा कि मेरी सरकार सामाजिक और आर्थिक परिस्थिति को मजबूत करने का काम कर रही है. बजट सत्र को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि सरकार ने संसद में तीन तलाक बिल पेश किया, जल्द ही इसे कानून भी बनाया जाएगा. देश में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का दायरा बढ़ रहा है. राष्ट्रपति ने कहा कि अटल पेंशन योजना के तहत 80 लाख वरिष्ठ नागरिक की सेवा की जा रही है.

राष्ट्रपति बोले कि हमारा लक्ष्य 2019 तक हर गांव को सड़क से जोड़ने का है. सौभाग्य योजना से 4 करोड़ घरों में बिजली पहुंचाई है. हमारे देश में 2.5 करोड़ से अधिक दिव्यांग हैं, इनके लिए सरकार लगातार काम कर रही है. उन्‍होंने कहा कि कमजोर वर्गों के लिए समर्पित मेरी सरकार संविधान में निहित मूलभावना पर चलते हुए देश में सामाजिक न्याय तथा आर्थिक लोकतंत्र को सशक्त करने और आम नागरिक के जीवन को आसान बनाने के लिए कार्य कर रही है. उन्‍होंने कहा कि मेरी सरकार ने तीन तलाक के संबंध में एक विधेयक संसद में प्रस्तुत किया है.

बता दें कि राष्ट्रपति का ये अभिभाषण केंद्र सरकार का वो दस्तावेज होता है जिसमें सरकार की पिछले वर्ष की उपलब्धियों के अलावा आने वाले फाइनेंशियल ईयर के लिए सरकार का विजन, योजनाओं और एजेंडे का ड्राफ्ट होता है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति भवन से संसद भवन तक अपने अंग रक्षकों और घुड़सवार दस्ते के साथ बग्घी से आएंगे, लेकिन इसके लिए कार प्रयोग भी की जा सकती है. राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद उपराष्ट्रपति संक्षेप में राष्ट्रपति के अभिभाषण के पहले और आखिरी पैरा का अंग्रेजी अनुवाद पढ़ेंगे.

आज से यानि सोमवार से शुरु हो रहे संसद के बजट सत्र में केंद्र सरकार तीन लताक विधेयक को पारित कराने के प्रयास कर सकती है. वित्त मंत्री अरुण जेटली 1 फरवरी को आम बजट पेश करेंगे जो भाजपा की एनडीए सरकार के इस पांच साल के कार्यकाल का आखिरी बजट होगा. वित्त मंत्री के साथ इस बजट को तैयार करने वाली टीम में हंसमुख अधिया वित्त सचिव के रुप में हैं जो 1981 गुजरात कैडर के आईएएस अधिकारी हैं. आज पेश हो रहे बजट में केंद्र सरकार बजट की प्राथिमिकताओं के अलावा तीन तलाक के साथ कुछ और महत्वपूर्ण विधेयकों को पारित कराने की कोशिशें कर सकती है.

रविवार को बजट सत्र से बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि सरकार बजट सत्र के दौरान तीन तलाक विधेयक को पारित कराने का प्रयास करेगी. जिसके लिए सभी दलों से बातचीत की जाएगी. अनंत कुमार ने कहा कि पीएम मोदी ने सर्वदलीय बैठक में सभी राजनीतिक दलों से बजट की सफलता सुनिश्चित करने की अपील की है. बजट से पूर्व की गई इस सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरुण जेटली, संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार के अलावा विपक्षी दलों से कांग्रेस के मल्लिाकार्जुन खड़गे, समाजवादी पार्टी से मुलायम सिंह, भाजपा से डी राज, तृणमूल कांग्रेस से डेरेक ओब्रायन, सुदीप बंदोपाथ्याय, और द्रमुक की कनीमोई जैसे शीर्ष नेताओं ने हिस्सा लिया.

बजट, रोजगार सहित कई अहम मुद्दों पर बोले पीएम मोदी, आम आदमी मुफ्त की चीजों की उम्मीद नहीं रखता

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App