नई दिल्ली. भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के महानायक नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत की गुत्थी आज तक सुलझी नहीं है. कहा जाता है कि उनका प्लेन आज ही के दिन यानी 18 अगस्त 1945 को दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. कई लोग मानते हैं कि प्लेन हादसे में ही उनकी मौत हो गई थी. जबकि कुछ का कहना है कि वह इसमें बच गए थे और   फैजाबाद  में ‘गुमनाम बाबा’ बनकर काफी वक्त तक रहे थे. 

लेकिन कांग्रेस ने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से उनकी ‘पुण्यतिथि’ पर कई पोस्ट किए हैं. कांग्रेस, गुजरात कांग्रेस और यूथ कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल के अलावा हरियाणा प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक तंवर ने भी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की पुण्यतिथि से जुड़ा ट्वीट किया है. यहां पेच यह है कि सरकार की ओर से कभी भी 18 अगस्त को सुभाष चंद बोस की पुण्यतिथि मनाने का एेलान नहीं किया गया. एेसे में अगर कांग्रेस की ओर से ट्वीट किया जा रहा है तो वह किस आधार पर है.

लोग ‘गुमनामी बाबा’ को सुभाष चंद्र बोस इसलिए भी मानते हैं क्योंकि 1985 में जब उनकी मौत हुई तो उनके पास मिला सामान देखकर हर कोई दंग रह गया. क्योंकि उनके पास महंगी शराब, सिगरेट, अखबार, पत्रिकाएं के अलावा नेताजी की निजी तस्वीरें भी मिलीं जिससे कयास लगाए गए कि वही सुभाष चंद्र बोस थे.

आजाद हिंद फौज की यूनीफॉर्म, रॉलेक्स की घड़ी, 1974 में आनंद बाजार पत्रिका में छपी 24 किस्तों वाली ‘विमान दुर्घटना की कहानी’, शाहनवाज और खोसला आयोग की रिपोर्ट ये सब कुछ भी गुमनामी बाबा के पास से मिला था. कहा जाता है कि वे अंग्रेजी, बांग्ला और जर्मन फर्राटे से बोलना जानते थे.

नेताजी और हंटर वाले की सेक्स भूख से बचने को खुद को काट लेती थीं रेप पीड़ित लड़कियां

मध्य प्रदेशः चुनाव से पहले गरमाई राजनीति, कांग्रेस का आरोप- सड़क फंड के पैसों से CM शिवराज सिंह चौहान के लिए खरीदी गई SUV कार फॉर्च्यूनर

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App